Monday, January 19, 2015

Battle of Bahraich. Indian History is Debunked FALSE.

Raja Sukhdev (Born 995 AD - Died 1050 AD) was ruler of Sravasti (Sahet-Mahet) a small northern kingdom of India in early 11th century. He is known by many names like Suhaldev, Sakardev, Suhirdadhwaj, Rai Suhrid Dev, Suhridil, Susaj, Shahardev, Sahardev, Suhahldev, Suhildev Suhal dhar, sohil dal, sohil deo, sudri dal and Suheldeo.
He was the eldest son of the Raja Mordhwaj. His origin is variously reported. He is said to have been a Tharu, a Bhar, a Kalhans or a Bais Rajputs. He also had a fort at Asokpur.
Battle of Baharaich  
It is interesting that none of the history textbooks we read, mention this great victory of Indian Union over Islamic hordes from northwest of India . There is a famous battle of Baharaich near Lucknow .

This battle was fought on 14th June 1033.

Introduction
The nephew of Mahmood Gazni, known as Masud Gazni, invaded India with army of more than 100,000 men in may 1031 AD. This time, the army was not a raiding party like that of Mahmood who came with intention of raiding, looting and retreating with the loot to Afghanistan . They were backed by the imperial army Persian empire and came here with the intention of permanent conquest and Islamization of India.

King Anandpal Shahi tried to check this Gazni advance towards heartland of India . He was helped by King of Sialkot , Rai Arjun. But, this alliance was overwhelmed by superiority of numbers of Pathan army. After defeating Anandpal Shahi and Rai Arjun, Masood advanced towards towards Malwa and Gujarat . King Mahipal Tomara tried to check their advance here but was defeated too. 

After victories across North Indian plains, Masood Gazni settled at Bahraich near Lucknow . He stayed here up to mid 1033. Meanwhile, 17 Rajput Kings of north India forged an alliance. This is biggest confederation that have ever existed in India . The head of this confederation was Raja Sukhdev, a Gurjara-Rajput King. It would be interesting to know how the alliance was forged and how was the game of chess played before the final showdown on 14th June. NONE OF INDIAN HISTORY BOOKS SHOW THAT HOWEVER.

On 13th June, Morning, Rajput army of about 120,000 descended on Gazni camp of Bahraich. Masood's army was completely besieged and encircled. The battle continued for hours. In the end, each and every man in Masood's camp was killed. No POW's were taken, no mercy was shown on the Afghan army. The location of this battle to be precise was near Chittaura Jheel, a lake about 8 KM away from modern Bahraich on Bahraich-Gond Road . The battle ended on 14th June with Victory of Raja Sukhdev and his Rajput alliance.

The invasion was completely crushed and such resounding was this victory that none of the king from Northwest dared to invade India for 160 years..


This is one of the golden pages of Indian History. India is indebted to series of Rajput Kings along the western border of India and in Central India . They were extremely instrumental in keeping Arab invaders at bay for 3 centuries. This was the time when Arabs were at their zenith. The Khilafat extended from Western Sindh to Spain .. However, they could not defeat Rajputs and enter Indian heartlands.

Rajputs were also instrumental in initial defeat of Muslim invaders from Northwest. The Battle of Bahraich was the peak point of Rajput valor. Their resistance waned with time over next 5 centuries. Rana Pratap was  last famous Rajput general to fight invaders.

The tomb of Masood Gazni is still present at Bahraich. People there have elevated him to the status of peer and Gaazi and worship him. And there is no single mention of this glorious victory of Hindus. This is an insult of Rajput valor. Same is the case with tomb of Afzal Khan at Pratapgarh in Maharashtra who was slain by Shivaji. 
I do not oppose theistic beliefs. However, people worshiping the tombs of people like Masood Gazni and Afzal Khan should be made aware of their heinous deeds.
(source: Battle of Baharaich - kalchiron.blogspot.com). hINDUISM VISDOM.INFO

Mahmood of Gazani attacked Sorti Somnath, the famous Shiva temple in Gujrat, for the last time, in 1026. Mahmood Ghori attacked North India in 1192. What happened in the intermediate period of 166 years?  Were the Muslims just too tired of raids? The answer is NO - They did attack, but faced a fierce battle at Baharaich, 60 miles North East of Lucknow.The entire Muslim army was wiped out, on 14 June 1033.  Not one Muslim survived to tell people back in Iran this bitter news. And as a result they did not dare attack India for more than six generations. The details are given in "Meerat-e-Masudi" by Sheikh Abdul Rahman Chisti. He says - Mahmood of Gazni's sister Maula was married to Salar Sahu, the Sultan of Iran. Their son Masood aged 12 accompanied Mahmood of Gazni on his last attack on Somnath. In 1031 Masood with 50,000 horses accompanied by two generals Meer Hussain Arab and Ameer Vazid Jafar attacked India . He crossed Sind, defeated Rai Arjun of Sahoor and King Anangpal of Multan . He marched on to Delhi . Here he was joined by his uncle Salar Saifuddin, Meer Wakhtiar, Meer Sayyad Ajijuddin and Malik Bahruddin and their armies. They defeated Rai Mahipal after a battle of 5 days. Rajputs fought to the last man. They marched on to Meerut and Ujjain whose Hindu kings made friendship treaties. Later Saket was taken.
- Miyya Rajab and Salar Saifuddin took Baharaich. Ameer Hasan Arab took Mahoona, Malik Fazal took Banares. Sulutanu-s-Salateen and Mir Bakhatiar went south to Kannor and there Mir Bakhtiar was killed during a fight with the Hindus.  
- Masood's father (King of Iran ) Salar Sahu arrived at Saket with a large army. Kada and Manikpur states were taken. Hindus fought to the last man.
On 14 June 1033 the entire Muslim army was wiped out at Bahraich during a pitch battle with a combined army of 17 Hindu Kings. They were Rai Raib, Rai Saib, Rai Arjun, Rai Bheekhan, Rai Kanak, Rai Kalyan, Rai Makaru, Rai Savaru, Rai aran, Rai Birbal, Rai Jaypal, Rai Shreepal, Rai Harpal, Rai Hakru, Rai Prabhu, Rai Deo Narayan and Rai Narsinha. They had 20 lakh (2 Million) horsemen and 30 lakh (3 million) footmen. Rai Sahar Deo and Rai Hardev also joined (Note - The figures of 2 million horsemen and 3 million footmen seem to be exaggerated). After the defeat of Salar Masood, Muzzafarkhan also died at Ajmer His successors were driven out by the Hindus. All the temples were rehabitated. Bells rang without hindrance. This state of affairs continued for 200 years. 
Ref. - Tawarikh-e-Mahamood (of Mahmood of Gazani)
           Tawarikh-e-Firozshahi
           Muntkhabut – Tawarikh etc. 

IN HINDI NOW-
भारतीय इतिहास के एक ऐसे महान राजपूत योद्धा सुहेलदेव बैस से परिचित कराएंगे जिन्होंने विभिन्न राजपूत राजाओं का अपने नेतृत्व में संघ बनाकर इस्लामिक हमलावरो का सफलतापूर्वक सामना किया और अयोध्या, काशी जैसे हिन्दू तीर्थो की रक्षा की लेकिन जिसे देश की हिन्दू जनता ने ही भूलाकर एक आक्रमणकारी जेहादी को अपना भगवान बना लिया।
==============================================================================
सुहेलदेव बैस का वंश परिचय -----
राजा सुहेलदेव बैस 11वीं सदी में वर्तमान उत्तर प्रदेश में भारत नेपाल सीमा पर स्थित श्रावस्ती के राजा थे जिसे सहेत महेत भी कहा जाता है।
सुहेलदेव महाराजा त्रिलोकचंद बैस के द्वित्य पुत्र विडारदेव के वंशज थे,इनके वंशज भाला चलाने में बहुत निपुण थे जिस कारण बाद में ये भाले सुल्तान के नाम से प्रसिद्ध हुए।
सुल्तानपुर की स्थापना इसी वंश ने की थी।
सुहेलदेव राजा मोरध्वज के ज्येष्ठ पुत्र थे। उनका राज्य पश्चिम में सीतापुर से लेकर पूर्व में गोरखपुर तक फैला हुआ था। उन्हें सुहेलदेव के अलावा सुखदेव, सकरदेव, सुधीरध्वज, सुहरिददेव, सहरदेव आदि अनेको नामो से जाना जाता है। माना जाता है की वो एक प्रतापी और प्रजावत्सल राजा थे। उनकी जनता खुशहाल थी और वो जनता के बीच लोकप्रिय थे। उन्होंने बहराइच के सूर्य मन्दिर और देवी पाटन मन्दिर का भी पुनरोद्धार करवाया। साथ ही राजा सुहेलदेव बहुत बड़े गौभक्त भी थे।
=================================================================================
~~सैयद सालार मसूद का आक्रमण~~
11वीं सदी में महमूद ग़ज़नवी ने भारत पर अनेक आक्रमण किये। उसकी मृत्यु के बाद उसका भांजा सैय्यद सालार मसूद ग़ाज़ी की उपाधी लेकर 1031-33ई. में अपने पिता सालार साहू के साथ भारत पर आक्रमण करने अभियान पर निकला। ग़ाज़ी का मतलब होता है इस्लामिक धर्म योद्धा। मसूद का मकसद हिन्दुओ के तीर्थो को नष्ट करके हिन्दू जनता को तलवार के बल पर मुसलमान बनाना था। इस अभियान में उसके साथ सैय्यद हुसैन गाजी, सैय्यद हुसैन खातिम, सैय्यद हुसैन हातिम, सुल्तानुल सलाहीन महमी, बढ़वानिया सालार सैफुद्दीन, मीर इजाउद्दीन उर्फ मीर, सैय्यद मलिक दौलतशाह, मियां रज्जब उर्फ हठीले, सैय्यद इब्राहिम और मलिक फैसल जैसे सेनापति थे।
उसने भारत में आते ही जिहाद छेड़ दिया। जनता को बलपूर्वक इस्लाम कबूलवाने के लिये उसने बहुत अत्याचार किये लेकिन कई ताकतवर राज्यो के होते मसूद को अपने इस अभियान में ज्यादा सफलता नही मिली। इसलिए उसने रणनीति बदल कर मार्ग के राजाओ से ना उलझ कर अयोध्या और वाराणसी के हिन्दू तीर्थो को नष्ट करने की सोची जिससे हिंदुओं के मनोबल को तोड़ा जा सके। वैसे भी उसका मुख्य लक्ष्य राज्य जीतने की जगह हिन्दू जनता को मुसलमान बनाना था इसलिये वो राजाओ की सेना से सीधा भिड़ने की जगह जनता पर अत्याचार करता था।
मसूद का मुकाबला दिल्ली के तंवर शासक महिपाल से भी हुआ था पर अतिरिक्त सेना की सहायता से वो उन्हें परास्त कर कन्नौज लूटता हुआ अयोध्या तक चला गया,मसूद ने कन्नौज के निर्बल हो चुके सम्राट यशपाल परिहार को भी हराया.
मालवा नरेश भोज परमार से बचने के लिए उसने पूरब की और बढ़ने के लिए दूसरा मार्ग अपनाया जिससे भोज से उसका मुकाबला न हो जाए,खुद महमूद गजनवी भी कभी राजा भोज परमार का मुकाबला करने का साहस नहीं कर पाया था.
सुल्तानपुर के युद्ध में भोज परमार कि सेना और बनारस से गहरवार शासक मदनपाल ने भी सेना भेजी ,जिसके सहयोग से राजपूतो ने मसूद कि सेना को सुल्तानपुर में हरा दिया और उनका हौसला बढ़ गया.
मसूद अपनी विशाल सेना लेकर सरयू नदी के तट पर सतरिख(बारबंकी) पहुँच गया।वहॉ पहुँच कर उसने अपना पड़ाव डाला।
उस इलाके में उस वक्त राजपूतों के अनेक छोटे राज्य थे। इन राजाओं को मसूद के मकसद का पता था इसलिये उन्होंने राजा सुहेलदेव बैस के नेतृत्व में सभी राजपूत राज्यो का एक विशाल संघ बनाया जिसमे जिसमे बैस, भाले सुल्तान, कलहंस, रैकवार आदि अनेक वंशो के राजपूत शामिल थे। इस संघ में सुहेलदेव के अलावा कुल 17 राजपूत राजा शामिल थे जिनके नाम इस प्रकार है- राय रायब, राय सायब, राय अर्जुन, राय भीखन, राय कनक, राय कल्याण, राय मकरु, राय सवारु, राय अरन, राय बीरबल, राय जयपाल, राय हरपाल, राय श्रीपाल, राय हकरु, राय प्रभु, राय देवनारायण, राय नरसिंहा।
सालार मसूद के आक्रमण का सफल प्रतिकार जिन राजा-महाराजाओं ने किया था उनमें गहड़वाल वंश के राजा मदनपाल एवं उनके युवराज गोविंद चन्द्र ने भी अपनी पूरी ताकत के साथ युद्ध में भाग लिया था। इस किशोर राजकुमार ने अपने अद्भुत रणकौशल का परिचय दिया। गोविंद चन्द्र ने अयोध्या पर कई वर्षों तक राज किया।
सुहेलदेव बैस के संयुक्त मोर्चे में भर जाति के राजा भी शामिल थे,भर जनजाति सम्भवत प्राचीन भारशिव नागवंशी क्षत्रियों के वंशज थे जो किसी कारणवश बाद में अवनत होकर क्षत्रियों से अलग होकर नई जाति बन गए थे,बैस राजपूतों को अपना राज्य स्थापित करने में इन्ही भर जाति के छोटे छोटे राजाओं का सामना करना पड़ा था,
ये सब एक विदेशी को अपने इलाके में देखकर खुश नही थे। संघ बनाकर उन्होंने सबसे पहले मसूद को सन्देश भिजवाया की यह जमीन राजपूतो की है और इसे जल्द से जल्द खाली करे।
मसूद ने अपने जवाब में अपना पड़ाव यह कहकर उठाने से मना कर दिया की जमीन अल्लाह की है।
=================================================================================~~बहराइच का युद्ध~~
मसूद के जवाब के बाद युद्ध अवश्यम्भावी था। जून 1033ई. में मसूद ने सरयू नदी पार कर अपना जमावड़ा बहराइच में लगाया। राजा सुहेलदेव के नेतृत्व में राजपूतो ने बहराइच के उत्तर में भकला नदी के किनारे अपना मोर्चा जमाया। जब राजपूत युद्ध की तैयारी कर ही रहे थे तभी रात के वक्त अचानक से मसूद ने हमला कर दिया जिसमे दोनों सेनाओ को बहुत हानि हुई।
इसके बाद चित्तोरा झील के किनारे निर्णायक और भयंकर युद्ध हुआ जो 5 दिन तक चला। मसूद की सेना में 1 लाख से ज्यादा सैनिक थे जिसमे 50000 से ज्यादा घुड़सवार थे जबकि राजा सुहेलदेव की सेना में 1 लाख 20 हजार राजपूत थे।
इस युद्ध में मसूद ने अपनी सेना के आगे गाय, बैल बाँधे हुए थे जिससे राजपूत सेना सीधा आक्रमण ना कर सके क्योंकि राजपूत और विशेषकर राजा सुहेलदेव गौ भक्त थे और गौ वंश को नुक्सान नही पहुँचा सकते थे, लेकिन राजा सुहेलदेव ने बहुत सूझ बूझ से युद्ध किया और उनकी सेना को इस बात से ज्यादा फर्क नही पड़ा और पूरी राजपूत सेना और भर वीर भूखे शेर की भाँति जेहादियों पर टूट पड़ी। राजपूतो ने जेहादी सेना को चारों और से घेरकर मारना शुरू कर दिया। इसमें दोनों सेनाए बहादुरी से लड़ी और दोनों सेनाओं को भारी नुक्सान हुआ। ये युद्ध 5 दिन तक चला और इसका क्षेत्र बढ़ता गया। धीरे धीरे राजपूत हावी होते गए और उन्होंने जेहादी सेना को गाजर मूली की तरह काटना शुरू कर दिया।
लम्बे भाले से लड़ने में माहिर बैस राजपूत जो बाद में भाले सुल्तान के नाम से माहिर हुए उन्होंने अपने भालो से दुश्मन को गोदकर रख दिया.
किवदन्ती के अनुसार अंत में राजा सुहेलदेव का एक तीर मसूद के गले में आकर लगा और वो अपने घोड़े से गिर गया। बची हुई सेना को राजपूतों ने समाप्त कर दिया और इस तरह से मसूद अपने 1 लाख जेहादीयों के साथ इतिहास बन गया।
विदेशी इतिहासकार शेख अब्दुर्रहमान चिश्ती ने सालार मसूद की जीवनी "मीरात-ए-मसूदी" में लिखा है "इस्लाम के नाम पर जो अंधड़ अयोध्या तक जा पहुंचा था, वह सब नष्ट हो गया। इस युद्ध में अरब-ईरान के हर घर का चिराग बुझा है। यही कारण है कि दो सौ वर्षों तक मुसलमान भारत पर हमले का मन न बना सके।"
राजा सुहेलदेव के बारे में ये कहा जाता है की वो भी अगले दिन मसूद के एक साथी के द्वारा मारे गए लेकिन कई इतिहासकारो के अनुसार वो युद्ध में जीवित रहे और बाद में कन्नौज के शाशको के साथ उन्होंने एक युद्ध भी लड़ा था।
इस युद्ध की सफलता में राजा सुहेलदेव बैस के नेतृत्व, सन्गठन कौशल और रणनीति का बहुत बड़ा हाथ था। इसीलिए आज भी राजा सुहेलदेव बैस को इस अंचल में देवता की तरह पूजा जाता है।
श्रीराम जन्मभूमि का विध्वंस करने के इरादे से आए आक्रांता सालार मसूद और उसके सभी सैनिकों का महाविनाश इस सत्य को उजागर करता है कि जब भी हिन्दू समाज संगठित और शक्ति सम्पन्न रहा, विदेशी शक्तियों को भारत की धरती से पूर्णतया खदेड़ने में सफलता मिली। परंतु जब परस्पर झगड़ों और व्यक्तिगत अहं ने भारतीय राजाओं-महाराजाओं की बुद्धि कुंठित की तो विधर्मी शक्तियां संख्या में अत्यंत न्यून होते हुए भी भारत में पांव पसारने में सफल रहीं।
लेकिन विडंबना यह है की जो सैयद सालार मसूद हिन्दुओ का हत्यारा था और जो हिन्दुओ को मुसलमान बनाने के इरादे से निकला था, आज बहराइच क्षेत्र में उस की मजार ग़ाज़ी का नाम देकर पूजा जाता है और उसे पूजने वाले अधिकतर हिन्दू है। बहराइच में एक पुराना सूर्य मन्दिर था जहाँ एक विशाल सरोवर था जिसके पास मसूद दफन हुआ था। तुग़लक़ सुल्तान ने 14वीं सदी में इस मन्दिर को तुड़वाकर और सरोवर को पटवाकर वहॉ मसूद की मजार बनवा दी। हर साल उस मजार पर मेला लगता है जिसमेँ कई लाख हिन्दू शामिल होते है।
राजा सुहेलदेव बैस जिन्होंने हिंदुओं को इतनी बड़ी विपदा से बचाया, वो इतनी सदियोँ तक उपेक्षित ही रहे। शायद वीर क्षत्रियो के बलिदान के प्रति कृतज्ञता प्रकट करने का हिन्दुओ का ये ही तरीका है। कुछ दशक पहले पयागपुर के राजा साहब ने 500 बीघा जमीन दान में दी जिसपर राजा सुहेलदेव बैस का स्मारक बनाया गया और अब वहॉ हर साल मेला लगता है।
================================================================================
~~राजा सुहेलदेव बैस के विषय में मिथ्या प्रचार~~
इस युद्ध में राजपूतो के साथ भर और थारू जनजाति के वीर भी बड़ी संख्या में शहीद हुए,राजपूतों के साथ इस संयुक्त मौर्चा में भर और थारू सैनिको के होने के कारण भ्रमवश कुछ इतिहासकारों ने सुहेलदेव को भर या थारू जनजाति का बता दिया जो सत्य से कोसो दूर है क्योकि स्थानीय राजपुतो की वंशावलीयो में भी उनके बैस वंश के राजपूत होने के प्रमाण है। सभी किवदन्तियो में भी उनहे राजा त्रिलोकचंद का वंशज माना जाता है और ये सर्वविदित है की राजा त्रिलोकचंद बैस राजपूत थे।
पिछले कई दशको से कुछ राजनितिक संगठन अपने राजनितिक फायदे के लिये राजा सुहेलदेव बैस को राजपूत की जगह पासी जाती का बताने का प्रयत्न कर रहे है जिससे इन्हें इन जातियों में पैठ बनाने का मौका मिल सके।
दुःख की बात ये है की ये काम वो संगठन कर रहे है जिनकी राजनीती राजपूतो के समर्थन के दम पर ही हो पाती है। इसी विषय में ही नही, इन संगठनो ने अपने राजनितिक फायदे के लिये राजपूत इतिहास को हमेशा से ही विकृत करने का प्रयास किया है और ये इस काम में सफल भी रहे है। 
राजपूत राजाओ को नाकारा बताकर इनके राजनितिक हित सधते हैं।
पर हम अपना गौरवशाली इतिहास मिटने नहीं देंगे,वीर महाराजा सुहेलदेव बैस को शत शत नमन

=============================================================================
सन्दर्भ----
1-http://en.wikipedia.org/wiki/Raja_Sukhdeo
2-देवी सिंह मुंडावा कृत राजपूत शाखाओं का इतिहास प्रष्ठ संख्या 70-73
3-रघुनाथ सिंह kalipahadi कृत क्षत्रिय राजवंश पृष्ठ संख्या 369
4-गोंडा एवं बहराइच गजेटियर