Sunday, July 24, 2016

महाराजा बघेलसिंह – दिल्ली जीती, “मुग़लों” को हराया और कर वसूला

॥ महाराजा बघेलसिंह – दिल्ली जीती, “मुग़लों” को हराया और कर वसूला ॥
महान योद्धा महाराजा बघेलसिंह धालीवाल जिन्होंने दिल्ली और सीमावर्ती क्षेत्रों को जीता , “मुग़ल सत्ता” को परास्त किया और सशक्त “हिन्दू साम्राज्य” की स्थापना की । इन्होने उत्तर भारत के लगभग सभी “नवाबों” को विवश कर दिया था और “भारतीय संस्कृति” की रक्षा की थी । आज इन्हें कितने लोग जानते हैं ?
इनका जन्म १७३० इसवी में हुआ था । इन्होने स्वयं को करोर सिंघिया मिसल से जोड़ लिया था । १७६५ में करोर सिंघिया मिसल के अधिपति सरदार करोरा सिंघजी के असाम्योक निधन के बाद ये मिसल के अधिपति बने । बघेलसिंहजी एक उत्तम योद्धा होने के साथ साथ राजनीति एवं कूटनीति के भी निष्णात पंडित थे ।

उस समय भारतवर्ष पर “अहमद शाह अब्दाली” के नेतृत्व में अफगानों के आक्रमण हुआ करते थे। बघेलसिंहजी के करोर सिंघिया मिसल का सीधा सामना “अब्दाली” से हुआ जिसमे की “अब्दाली” ने एक ही दिन में धोखे से ३०,००० से ४०,००० हिन्दू-सिख बूढ़े-बच्चे और महिलाओं की ह्त्या कर दी । इस घटनाक्रम के उपरांत सिखों ने संगठित होना प्रारंभ किया ।
बघेलसिंहजी ने अम्बाला , करनाल , हिसार , थानेसर , जालंधर दोआब और होशियारपुर पर नियंत्रण कर लिया । बघेलसिंहजी ने पंजाब को “मुग़लों” से स्वतंत्र करा लिया । इसके उपरांत बघेलसिंहजी ने हिन्दू-साम्राज्य का विस्तार प्रारंभ किया । बघेलसिंहजी ने दिल्ली से जुड़े हुए क्षेत्रों जैसे मेरठ , सहारनपुर , शाहदरा और अवध के नवाबों को पराजित किया और उनसे भारी मात्र में कर वसूला ।
३०००० सिपाहियों के साथ बघेलसिंहजी ने यमुना को पार किया और सहारनपुर पर नियंत्रण कर लिया और वहाँ के नवाब “नजीब-उद्-दौला” से ११,००,००० का कर वसूला । इसी क्रम में उन्होंने “ज़बिता खान” को भी परास्त किया और कर प्राप्त किया । मार्च १९७६ , में इन्होने “मुग़ल-शहंशाह शाह आलम द्वितीय” की “शाही मुग़ल सेना” को मुजफ्फरनगर के निकट परास्त किया ।
इससे बौखला कर १७७८ में “शाह आलम द्वितीय” ने ३,००,००० से अधिक “शाही मुग़ल सेना” को “शाही वजीर” “नवाब मजाद-उद्-दौला” के सेनापतित्व में हिन्दू-सिख सेना को कुचलने को भेजा । किन्तु बघेलसिंहजी एक उत्तम रणनीतिकार और राजनीतिज्ञ थे । उन्होंने मुगलों की प्रत्येक चाल को मात दी और मुग़ल सेना को घनौर के निकट बुरी तरह परास्त किया । विराट मुग़ल सेना ने इनके सामने आत्म-समर्पण किया ।
अप्रैल १७८१ में मुगलों के “शाही वजीर” के निकट सम्बन्धी “मिर्ज़ा शफी” ने धोखे से हिन्दू-सिख सैनिक छावनी हथिया ली , "बघेलसिंहजी" ने इसका प्रतिकार शाहाबाद के “खलील बेग खान” को हराकर किया जिसने बड़े भारी सैन्य बल के साथ "बघेलसिंहजी" के समक्ष आत्मसमर्पण किया ।
अब तो सिखों ने दिल्ली पर विजय प्राप्ति की ठान ली और ११, मार्च १७८३ को विजय प्राप्त करके लाल किले में प्रवेश किया । “दीवान –ए-आम” जहां अकबर , शाहजहाँ , जहाँगीर और औरंगजेब दरबार लगाया करते थे वहां “बघेलसिंहजी” का दरबार सजा । "मुग़ल शहंशाह शाह आलम द्वितीय" हाथ बांधे सामने खड़ा था ।
मुग़ल शहंशाह और महल के स्त्री-पुरुषों के प्रार्थना करने पर "बघेल सिंह जी" ने दिल्ली की कुल आय का ३७.५% कर निश्चित करके फिर दिल्ली को छोड़ा । बस , तभी से मुग़ल शहंशाह नाममात्र के शासक रह गए । जब तक हिन्दू साम्राज्य रहा तब तक निर्बाध रूप से कर हिन्दू साम्राज्य को पंहुचता रहा ।
इतिहास में पढाया यह जाता हैं की औरंगजेब के बाद मुग़ल शासन कमज़ोर पड़ गया । अरे , अपनेआप कमज़ोर पडा क्या ? हमारे योद्धाओं ने उन्हें बुरी तरह हराकर कमज़ोर किया । हमारे बच्चों को बताया ही नहीं जा रहा हैं की हमारा गौरव कैसा हुआ करता था (वस्तुतः हम कभी गुलाम रहे ही नहीं)।
किन्तु , सत्य अब अधिक देर तक छिप नहीं सकता ।
-Manisha Singh