Thursday, November 12, 2015

Dawood and its real estate in London

3000 करोड़ रुपये की संपत्ति का मालिक है दाऊद
हिंदुस्तान का दुश्मन नंबर वन दाऊद इब्राहिम भले ही पाकिस्तान में बैठा है, लेकिन उसके हुक्म पर धंधा दुबई और ग्रेट ब्रिटेन में भी चलता है. भारत सरकार की कोशिश है कि दाऊद हर हाल में कानून के कठघरे में खड़ा हो. इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे में वो दस्तावेज ब्रिटिश सरकार को सौंपे गए, जिनमें ब्रिटेन में स्थित दाऊद की संपत्तियों का ब्यौरा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से उनके सरकारी निवास 10, डाउनिंग स्ट्रीट में मुलाकात की. प्रधानमंत्री के साथ गए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अधिकारियों के एक दल के साथ दाऊद की संपत्ति पर एक डोजियर ब्रिटिश सरकार को सौंपा. ब्रिटिश अधिकारियों से दाऊद की संपत्ति सीज करने की गुजारिश भी की है.

प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक, दुनिया की 10 देशों में दाऊद की 50 प्राइम प्रॉपर्टी हैं. इनकी कीमत करीब 3000 करोड़ रुपये आंकी गई है. लेकिन सबसे ज्यादा निवेश ब्रिटेन और लंदन में ही हुआ है. ब्रिटेन में दाऊद और उसके करीबियों की 15 संपत्तियां हैं, जिनकी कीमत करीब 1500 करोड़ रुपये आंकी जा रही है. डी कंपनी ने ब्रिटिश अधिकारियों की मिलीभगत से यह बनाई है


हिंदुस्तान का दुश्मन नंबर वन दाऊद इब्राहिम भले ही पाकिस्तान में बैठा है, लेकिन उसके हुक्म पर धंधा दुबई और ग्रेट ब्रिटेन में भी चलता है. भारत सरकार की कोशिश है कि दाऊद हर हाल में कानून के कठघरे में खड़ा हो. इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे में वो दस्तावेज ब्रिटिश सरकार को सौंपे गए, जिनमें ब्रिटेन में स्थित दाऊद की संपत्तियों का ब्यौरा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन से उनके सरकारी निवास 10, डाउनिंग स्ट्रीट में मुलाकात की. प्रधानमंत्री के साथ गए राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने अधिकारियों के एक दल के साथ दाऊद की संपत्ति पर एक डोजियर ब्रिटिश सरकार को सौंपा. ब्रिटिश अधिकारियों से दाऊद की संपत्ति सीज करने की गुजारिश भी की है.

प्रवर्तन निदेशालय के मुताबिक, दुनिया की 10 देशों में दाऊद की 50 प्राइम प्रॉपर्टी हैं. इनकी कीमत करीब 3000 करोड़ रुपये आंकी गई है. लेकिन सबसे ज्यादा निवेश ब्रिटेन और लंदन में ही हुआ है. ब्रिटेन में दाऊद और उसके करीबियों की 15 संपत्तियां हैं, जिनकी कीमत करीब 1500 करोड़ रुपये आंकी जा रही है. डी कंपनी ने ब्रिटिश अधिकारियों की मिलीभगत से यह बनाई है.

D कंपनी की संपत्ति सीज करने की गुजारिश
भारत चाहता है कि डी कंपनी की सारी संपत्ति सीज हो ताकि उसकी कमर टूटे. दूसरे देशों को पैगाम जाए कि डॉन को बचाना गलत ही नहीं, गैरकानूनी भी है. कुछ समय पहले ही प्रधानमंत्री मोदी ने दाऊद की संपत्तियों का ब्योरा यूएई सरकार को सौंपा था. अब साफ है कि पाकिस्तान चाहे दाऊद को बचाने की कितनी ही नापाक कोशिश करे, लेकिन उसे बचा नहीं सकता.

लंदन में डॉन का चलता है साम्राज्य
लंदन से कभी अंग्रेजों का ऐसा राज चलता था, जिसमें कभी सूरज डूबता ही नहीं था. आज इसी लंदन में उस दाऊद इब्राहिम के काले कारोबार का साम्राज्य भी चलता है, जो आतंक, ड्रग तस्करी और हवाला के धंधों में माहिर है. इसीलिए भारत चाहता है कि ब्रिटेन में यदि दाऊद के धंधों और अड्डों को चौपट कर दिया जाए तो उसको पकड़ना आसान हो जाएगा.

दाऊद की प्रॉपर्टी की एक्सक्लूसिव लिस्ट


प्रापर्टी नं-1 - 6, सेंट जॉन्स वूड रोड, लंदन (साथ में बड़ा गैराज)
प्रापर्टी नं-2-- हरबर्ट रोड, हॉर्नचर्च, एसेक्स
प्रापर्टी नं-3- सारा हाउस (9 फ्लैट्स और एक पेंट हाउस) रिचमंड रोड, इलफोर्ड
प्रापर्टी नं-4- डार्टफोर्ड होटल, 22-26 स्पिटल स्ट्रीट, डार्टफोर्ड
प्रापर्टी नं 5- 2, टॉम्सवूड रोड, शिगवेल
प्रापर्टी नं -6-रॉम्पटन हाइ स्ट्रीट, लंदन में दुकान और अपार्टमेंट
प्रापर्टी नं-7- लांसलॉट रोड पर दुकान और अपार्टमेंट
प्रापर्टी नं-8- 230, थॉर्न्टन रोड, क्रॉयडॉन
प्राप्रटी नं-9-  9, कोमो स्ट्रीट, रॉमफोर्ड, एसेक्स
प्रापर्टी-नं-10- द लान्स, 74, शेफर्ड्स बुश गार्डन, लंदन
प्रापर्टी नं-11- 37 और 37 ए, ग्रेट सेंट्रल एवेन्यू, साउथ रुइस्लिप
प्रापर्टी नं-12- 15-17, सेंट स्विथिन्स लेन, लंदन
प्रापर्टी नं-13- 28-30 नाइट्सब्रिज रोड/हावर्ड हाउस (साउदेंड), रॉम्पटन हाइ स्ट्रीट, लंदन
प्रापर्टी नं-14- 18, वूडहाउस रोड, न्यू नॉर्थ रोड हैनॉल्ट
प्राप्रटी नं-15- 13 बी, रिचमॉन्ड रोड, इलफोर्ड

दाऊद का लंदन में ऐसे चलता है धंधा
दाऊद इब्राहिम खुद लंदन नहीं जाता, लेकिन उसका धंधा फलता-फूलता रहा है. भारत सरकार द्वारा ब्रिटेन को सौंपे गए डोजियर से पता चलता है कि हवाला का कारोबार ब्रिटेन में दाऊद के गैरकानूनी बिजनेस की बुनियाद है.
एक अनुमान के मुताबिक दुबई से 1000 करोड़ रुपये की रकम हवाला के जरिए भेजी गई. वो रकम लंदन सहित यूरोप के कई देशों में भेजी गई.

1993 बम धमाकों के बाद दाऊद के साथ इकबाल मिर्ची भारत से फरार हो गया. लेकिन दाऊद और उसकी गैरहाजिरी में भी डी कंपनी भारत में काम करती रही. लूट, हत्या, फिरौती, जमीन कब्जाने जैसे तमाम काले धंधों से जो मोटी रकम आती, डी कंपनी के गुर्गे उसे हवाला के जरिए दुबई और लंदन भेजते रहे...इससे दाऊद ने इकबाल मिर्ची के सहारे यूरोप में अपना काला कारोबार खड़ा किया.

अगस्त 2013 को इकबाल मिर्ची की हार्ट अटैक से मौत हो गई. इसके बाद दाऊद ने अपना कारोबार इकबाल मिर्ची के परिवार को सौंप दिया. सरकार ने ब्रिटेन को दाऊद का कारोबार संभालने वालों के नाम सौंपे हैं. ये सभी नाम हैं तो इकबाल मिर्ची के परिजनों के, लेकिन काले धंधे की बड़ी रकम दाऊद की झोली में जाती है. इस तरह दाऊद पाकिस्तान में बैठे हुए साम्राज्य चलाता है.

दाऊद का कारोबर देखने वालों की लिस्ट

आसिफ मेमन
इकबाल मिर्ची का बड़ा बेटा. आसिफ मेमन दुबई और भारत के बीच होने वाले हवाला कारोबार पर निगाह रखता है.

जुनैद मेमन
इकबाल मिर्ची का छोटा बेटा. जुनैद दाऊद के यूरोप और अफ्रीका का कोराबार देखता है.

हाजरा मेमन
इकबाल मिर्ची की बीवी. हाजरा दाऊद के मोरक्को, स्पेन और लंदन के काले कारोबार में सहयोग करती है.

नादिया मेमन मलिक
इकबाल मिर्ची की बेटी, नादिया की शादी जावेद मलिक से हुई है. नादिया अपनी मां की मदद करती है.

जावेद मलिक
पाकिस्तानी नागरिक और नादिया मेमन का पति. वह पाकिस्तान और दुबई के बीच होने वाले काले कारोबार में दाऊद की मदद करता है.

इसके अलावा भारत सरकार ने अपने डोजियर में हुमायूं सुलेमान मर्चेंट, हारूम रशीद अलीम, एआर यूसुफ, मुख्तार पटका, वाधवा ग्रुप, अरशद फिरोज मेमन, फिरोज मेमन और परवीन फिरोज मेमन के नाम भी सौंपे हैं. सरकार इन सबकी धरपकड़ के जरिए भी दाऊद का नेटवर्क कमजोर करने में लगी है. ताकि दाऊद को कमजोर करके सरेंडर कराया जा सके. 
From WWW.AAJTAK.IN