Tuesday, October 20, 2015

Story of Dadri and cow worship

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के दादरी के पास बिसाहदा गाँव क्षत्रियों के मशहूर साठा चौरासी क्षेत्र का हिस्सा है।
1857 के संग्राम में भी यहां के क्षत्रियो ने अंग्रेजो के विरुद्ध बढ़ चढ़ कर भाग लिया था। इन क्षत्रियो में गौ रक्षा को लेकर कितना आग्रह है ये आप हमारी इस पुरानी पोस्ट से जान सकते हैँ, जब 1857 संग्राम में गौवंश की रक्षा के लिये साठा चौरासी के क्षत्रियो ने अंग्रेजो के विरुद्ध युद्ध का शंखनाद कर दिया था और लाल किला तक पर केसरिया लहरा आए थे--------
पश्चिमी उत्तर प्रदेश में दिल्ली के नजदीक गाज़ियाबाद, हापुड़, दादरी के बीच में राजपूत बहुल प्रसिद्ध साठा चौरासी क्षेत्र है जिसमे गहलोत(शिशोदिया) राजपूतो के 60 और तोमर राजपूतो के 84 गाँवों में राजपूतो की बहुत बड़ी आबादी रहती है। इसी कारण इसे आम बोलचाल में पश्चिम उत्तर प्रदेश का राजपूताना और छोटी चित्तोड़ भी कहा जाता है।
इस क्षेत्र में तोमर राजपूतो ने दिल्ली में उनकी सत्ता छिन जाने के बाद राज स्थापित किया जबकि गहलोत मेवाड़ के महान शाशक रावल खुमान के वंशज है। राणा खुमान के वंशज राणा वक्षराज ने मेवाड़ से आकर इस क्षेत्र में अपना राज स्थापित किया और विक्रम संवत 1106 में अपनी राजधानी देहरा गाँव में स्थापित की। इसी देहरा से क्षेत्र में गहलोत(सिसोदिया) राजपूतो के 60 गाँव निकले हैँ। राणा वक्षराज के भाई राणा हस्तराज ने हाथरस नगर बसाया और उनके वंशज आगरा, हाथरस में गहलोत और मथुरा के 42, बदायूँ के 18, फर्रुखाबाद के 12 और बुलंदशहर के स्याना-ऊंचागांव क्षेत्र के 12 गाँवों में बाछल के नाम से मिलते हैँ।
इस साठा चौरासी क्षेत्र के राजपूतो का इतिहास बहुत गौरवशाली रहा है और लड़ाकू प्रवृत्ति के होने के साथ ही सरकारी दमन का हमेशा बहादुरी के साथ विरोध करते आए है। तुर्क, मुगलो के समय घोर दमनकारी शासन के बावजूद उनमे से कोई भी इन दिल्ली के बगल में बसे राजपूतो की शक्ति को खत्म नही कर पाया, जबकि वो खुद खत्म हो गए। इसी बहादुरी की एक झलक 1857 के संग्राम में भी देखने को मिली जब साठा चौरासी के राजपूतो ने अंग्रेजी सत्ता के विरुद्ध खुली बगावत कर दी थी। मुकीमपुर गढ़ी के ठाकुर गुलाब सिंह तोमर ने क्षेत्र में बगावत का झंडा बुलंद किया ही, इसके साथ ही पिलखुवा, धौलाना और सपनावत जैसे कस्बे इस क्रांति के केंद्र थे। साठा चौरासी की इस क्रांति गाथा का पहला भाग धौलाना के शहीदों के बारे में यहाँ प्रस्तुत है जिनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने लाल किले पर क्षत्रिय शक्ति का प्रतिक केसरिया ध्वज फहरा दिया था-
***धौलाना के शहीद***
मेरठ में सैनिक बगावत की सूचना मिलते ही साठा चौरासी क्षेत्र में अंग्रेजो के विरुद्ध क्रांति का वातावरण बनने लगा। बहुत से सैनिक मेरठ से दिल्ली जाने के क्रम में इस क्षेत्र में धौलाना, डासना आदि गाँवों में रुके। अगले दिन प्रातःकाल को सब धौलाना के चौधरी के यहाँ इकट्ठे हो गये और धौलाना की गलियों में ब्रिटिश सरकार के विरूद्ध 'हर-हर महादेव' के नारे लगाने शुरू कर दिये, थोड़ी ही देर में धौलाना ग्राम तथा आस-पास के हजारों राजपूत युवक इकट्ठा हो गये। इसी दौरान साठा के सबसे बड़े गाँव धौलाना में ईद के मौके पर एक गाय काट दी गयी थी। जिसे यहाँ के ग्रामीणों ने ब्रितानियों का षड्यंत्र माना तथा अपने धर्म पर आघात होना माना। इस घटना से यहाँ धार्मिक उन्माद का वातावरण बन गया। इस उत्तेजित वातावरण में ग्रामीणों ने 'मारो फिरंगी को' के नारे लगाये और वे गाँव में स्थित पुलिस थाने की दिशा में चल पड़े, जहाँ उन्होंने उसमें आग लगा दी। थानेदार मुबारक अली मुश्किल से जान बचाकर भागने में सफल हुआ और वह निकटवर्ती गाँव ककराना में दिन भर गोबर के बिटोरो में छिपे रहा। रात में वह वहाँ से निकलकर मेरठ पहुँचा तथा अंग्रेज़ उच्च अधिकारियों को धौलाना की स्थिति से अवगत कराया। इस दौरान पूरा क्षेत्र बागियों के नियंत्रण में आ गया और अंग्रेजी सत्ता समाप्त हो गई। कई सप्ताह तक राजपूतो ने स्वतंत्र राज किया।
कुछ समय पश्चात् अधिकारी डनलप के नेतृत्व में ब्रिटिश सेना की एक बड़ी टुकड़ी धौलाना पहुँच गयी और विद्रोह का निर्ममता से दमन करना शुरू किया। विद्रोह को दबाकर शांति स्थापित करने के बाद प्रतिशोध की कार्यवाई करने के लिये थानेदार की रिपोर्ट के आधार पर 13 राजपूतों तथा एक अग्रवाल बनिया लाला झनकूमल को गिरफ्तार करके डनलप के सामने लाया गया। क्रांतिकारियों में बनिये झनकूमल को देखकर उन्होंने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि- "राजपूतों ने ब्रिटिश शासन के विरूद्ध विद्रोह किया यह बात समझ में आती है किन्तु तुमने महाजन होकर, इन विद्रोहियों का साथ दिया, यह बात समझ में नहीं आती। तुम्हारा नाम इनके साथ कैसा आ गया?" लाल झनकू ने जवाब दिया कि "इस क्षेत्र में जब से आपके व्यक्तियों ने मुसलमानों के साथ मिलकर गौ-हत्या करायी तब से मेरे हृदय में गुस्सा पनप रहा था। मैं सब कुछ सहन कर सकता हूँ साब, किन्तु अपने धर्म का अपमान, गौ-माता की हत्या सहन नहीं कर सकता।"
डनलप ने इन 14 क्रांतिकारियो को फाँसी लगाने का आदेश दिया। परिणामतः गाँव में ही चौपाल पर खड़े दो पीपल के वृक्षों पर उन्हें फाँसी दे दी गयी।
इस क्षेत्र के व्यक्तियों को आतंकित करने तथा आने वाले समय में फिर इस प्रकार की घटना की पुनरावृत्ति न हो यह दिखाने के लिए चौदह कुत्तों को मारकर इन ग्रामीणों के शवों के साथ दफना दिया गया। धौलाना गाँव को बागी घोषित कर दिया तथा ग्रामीणों की सम्पत्ति जब्त करके अपने वफादारों को दे दी गई। पुलिस थाने को पिलखुवा स्थानान्तरित कर दिया गया। गाँव में एक ब्रिटिश सैन्य टुकड़ी नियुक्त की गयी जो काफी दिनों तक धौलाना में मार्च करती रही।
हालांकि इस घटना के बारे में एक दूसरा मत भी है।
इस घटना के सम्बन्ध में क्षेत्र निवासी ठाकुर मेघनाथ सिंह सिसौदिया जी(पूर्व विधायक) ने '1857 में ब्रितानियों के खिलाफ जनता व काली पल्टन द्वारा साठे में लड़ा गया प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (गदर) का आरम्भिक सच्चा वर्णन' शीर्षक से एक गुलाबी रंग का पैम्पलेट जारी किया था। उनके अनुसार------
"11 मई, 1857 को इस साठा क्षेत्र के राजपूतों का खून क्रांति के लिए खौल उठा। दोपहर से पहले ही धौलाना व पास-पड़ोस के हजारों राजपूत युवक ब्रिटिश सरकार के खिलाफ वीरतापूर्वक नारे लगाते हुए तथा ढोल, शंख, घड़ियाल बजाते हुए धौलाना की गलियों में घूमने लगे और हर-हर महादेव के नारे लगाने लगे। इससे भयभीत होकर धौलाना थाने के दरोगा व सिपाही थाने को छोड़कर भाग गये, इन क्रांतिकारियों ने मेरठ की काली पल्टन के सैनिकों के साथ मिलकर थाने में आग लगा दी तथा सभी सरकारी कागजात फूँक डाले। तत्पश्चात् ठाकुर झनकू सिंह के नेतृत्व में यह जत्था दिल्ली कूच कर गया। रास्ते में क्रांतिकारियों ने रसूलपुर, प्यावली के किसानों को अपने साथ चलने के लिए प्रेरित किया। रोटी मांगते हुए और रोटी बाँटते हुए वे दिल्ली की ओर चले दिये और 12 मई को प्रातः काल दिल्ली पहुँच गये। वहाँ 12 मई को धौलाना के राणा झनूक सिंह गहलोत ने दिल्ली के हजारों लोगों के सामने ब्रितानियों की गुलामी का चिन्ह यूनियन जैक को जो लाल किले पर टंगा हुआ था, ऊपर चढ़कर फाड़कर उसके स्थान पर अपनी केशरिया पगड़ी टांग दी और इस प्रकार दिल्ली के लाल किले पर केशरिया झण्डा फहरा दिया।
ब्रितानियों ने दिल्ली पर पुनः अधिकार करने के पश्चात् ठाकुर झनकू सिंह की खोजबीन की परन्तु उनका कहीं भी पत्ता नहीं चला। पूरब में उनकी रिश्तेदारी से सूचना प्राप्त हुई कि वह कमोना के बागी नवाब दूंदे खाँ के पासे है। दूंदे खाँ के पकड़े जाने पर ठाकुर झनकू सिंह, पेशवा नाना साहब के साथ नेपाल चले गये। साठा के क्षेत्र में धौलाना की जमींदारी मालगुजारी जमा न करने के अपराध में छीन ली...परिणाम यह निकला कि धौलाना के 14 क्रांतिकारियों ठाकुर झनकू सिंह को छोड़कर 13 राजपूत क्रांतिकारियों को पकड़ लिया गया। पकड़े जाने पर इनके परिवार के स्त्री-पुरूष तथा ग्रामवासियों को इकट्ठा करके सबके सामने धौलाना में पैंठ के चबूतरे पर खड़े दो पीपल के पेड़ों पर 29 नवम्बर, 1857 को फाँसी दे दी गयी।
बागियों के घरो में आग लगा दी गई और इनके परिवारो पर भयंकर अत्याचार किये गए। अत्याचार की इंतेहा ये थी ठाकुर झनकू सिंह के पकड़े ना जाने पर खीज मिटाने के लिये उनके ही समान नाम के धौलाना के एक बनिये झनकूमल को फांसी पर लटका दिया गया। इन सबके बाद एक गहरे गड्ढे में इन सबकी लाशो को फिकवा कर उन सबके साथ एक एक जीवित कुत्ता बंधवा दिया गया और फिर गढ्ढे को पटवा दिया गया।"
धौलाना में फांसी पर चढ़ाए गए 14 शहीदों के नाम इस प्रकार है- 1. लाला झनकूमल 2. वजीर सिंह चौहान 3. साहब सिंह गहलौत 4. सुमेर सिंह गहलौत 5. किड्ढा गहलौत, 6. चन्दन सिंह गहलौत 7. मक्खन सिंह गहलौत 8. जिया सिंह गहलौत 9. दौलत सिंह गहलौत 10. जीराज सिंह गहलौत 11. दुर्गा सिंह गहलौत 12. मुसाहब सिंह गहलौत 13. दलेल सिंह गहलौत 14. महाराज सिंह गहलौत।
इनमें साहब सिंह तथा जिया सिंह सगे भाई थे। सन् 1957 में ठाकुर मेघनाथ सिंह सिसौदिया जी ने ठाकुर मानसिंह को साथ लेकर इस स्थान पर शहीद स्मारक बनवाया जो आज भी इन क्रांतिकारी ग्रामीणों की शहादत की याद दिला रहा है।