Tuesday, September 8, 2015

Aurangjeb

हमारे पूर्वजो ने ये अत्याचार भोगा था ये त्रासदी झेली थी मृत्यु तुल्य कष्ट और अनाचार से को सनातन को छोड़कर इस्लाम कबूलने के लिए मजबूर हुए वो ही मुसलमान है इस देश में इस लिए दोनो को संबोधित किया है)
.
.
हमारे पूर्वजो पर हुए अत्याचार....

1- हम कैसे भूल जाएँ... उस कामपिपासु अलाउद्दिन खिलजी को, जिससे अपने सतीत्व को बचाने के लिये रानी पद्ममिनी 14000 महिलाओं के साथ जलते हुए अग्निकुंड में कूद गयी थीं।

2- हम कैसे भूल जाएँ... उस जालिम औरंगजेब को, जिसने संभाजी महाराज को इस्लाम स्वीकारने से मना करने पर तडपा तडपा कर मारा था।

3- हम कैसे भूल जाएँ... उस जिहादी टीपु सुल्तान को, जिसने एक एक दिन में लाखों हिंदुओ का नरसंहार किया था।

4- हम कैसे भूल जाएँ... उस जल्लाद शाहजहाँ को, जिसने 14 बर्ष की एक ब्राह्मण बालिका के साथ अपने महल में जबरन बलात्कार किया।

5- हम कैसे भूल जाएँ... उस बर्बर बाबर को, जिसने मेरे श्री राम प्रभु का मंदिर तोड़ा और लाखों निर्दोष हिंदुओ का कत्ल किया था।

6- हम कैसे भूल जाएँ... उस शैतान सिकन्दर लोदी को, जिसने नगरकोट के ज्वालामुखी मंदिर की माँ दुर्गा की मूर्ति के टुकड़े कर उन्हें कसाइयों को मांस तोलने के लिये दे दिया था।

7- हम कैसे भूल जाएँ... उस धूर्त ख्वाजा मोइन्निद्दिन चिस्ती को, जिसने संयोगीता को इस्लाम कबूल ना करने पर नग्न कर मुगल सैनिको के सामने फेंक दिया था।

8- हम कैसे भूल जाएँ... उस निर्दयी बजीर खान को, जिसने गुरूगोविंद सिंह के दोनों मासूम बच्चों फतेहसिंह और जोरावार को मात्र 7 साल और 5 बर्ष की उम्र में इस्लाम ना मानने पर दीवार में जिन्दा चुनवा दिया था।

9- हम कैसे भूल जाएँ... उस जिहादी बजीर खान को, जिसने बन्दा बैरागी की चमडी को गर्म लोहे की सलाखों से तब तक जलाया जब तक उसकी हड्डियां ना दिखने लगी मगर उस बन्दा वैरागी ने इस्लाम स्वीकार नहीं किया।

10- हम कैसे भूल जाएँ... उस कसाई औरंगजेब को, जिसने पहले संभाजी महाराज की आँखों मे गरम लोहे के सरिये घुसाए, बाद में उन्हीं गरम सरियों से पुरे शरीर की चमडी उधेडी, फिर भी संभाजी ने हिंदू धर्म नही छोड़ा था।

11- हम कैसे भूल जाएँ... उस नापाक अकबर को, जिसने हेमू के 72 वर्षीय स्वाभिमानी बुजुर्ग पिता के इस्लाम कबूल ना करने पर उसके सिर को धड़ से अलग करवा दिया था।

12- हम कैसे भूल जाएँ... उस वहशी दरिंदे औरंगजेब को, जिसने धर्मवीर भाई मतिदास के इस्लाम कबूल न करने पर बीच चौराहे पर आरे से चिरवा दिया था।

हम सनातनियो और आज के मुसलमानो पर हुए अत्याचारो को बताने के लिए शब्द और स्थान कम हैं....!!

इस पोस्ट को पढ़कर मेरी तरह आपका खून भी खौला ही होगा इसलिए आओ मिलकर इस पोस्ट को अपने मित्रों के साथ शेयर ज़रूर करें।
सब समुदायो हिन्दू मुस्लिम जैन सिख बौद्ध सबको बताये..!