Thursday, May 7, 2015

Operation RAHAT, Evacuation from Yemen

Rajputana Soch  राजपूताना सोच और क्षत्रिय इतिहास's photo.
None of Indian Prestitute media was there in Yemen while BBC reported greatest evacuation done as humanitarian purpose by India under Modi and General Singh.
Operation #Rahat - India's mission to evacuate Global citizens..BBC reports an untold saga of a greatest rescue operation in Yemen after Entebbe Crisis.
Posted by Hinduism DeMystified on Saturday, April 11, 2015

Rajputana Soch  राजपूताना सोच और क्षत्रिय इतिहास's photo. हाल ही में पीएम मोदी जी के निर्देश पर केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह जी गोलियों की बौछार के बीच अपनी जान पर खेलकर 350 भारतीयो को यमन से बचाकर वापिस भारत लाए। ये वही वीके सिंह हैँ जिन्हें कुछ दिन पहले पाक दिवस पर पाकिस्तान उच्चायोग में पाकिस्तानी राजदूत के साथ मीटिंग करने पर हमारे भांड मीडिया के साथ ही सोशल मीडिया पर तथाकथित राष्ट्रवादी लोग इस्तीफा मांग रहे थे और वो राजी भी हो गए थे लेकिन जैसे तैसे विवाद को खत्म किया गया। अब उन्ही वीके सिंह को प्...रधानमन्त्री मोदी जी ने यमन में फसे हुए भारतीयो को सुरक्षित निकालने का जिम्मा सौंपा।
जिन हालात में बाकि नेता कड़ी निंदा कर के काम चला लेते हैं उस हालत में जनरल वीके सिंह ने 'we are safe' की गर्जना करते हुए मोर्चा संभाला...जहाँ गोलियां चल रही हैँ, बम फट रहे हैँ...वहां डटे रहे अपने लोगो को बचाने के लिए....सबके हालचाल लिए....सेना के विमान से सबको सकुशल वापस अपने देश लेकर आए।
Rajputana Soch  राजपूताना सोच और क्षत्रिय इतिहास's photo. लेकिन इतना होने पर भी उच्चायोग वाली बात पर विलाप करने वाले किसी चैनल या सोशल मीडिया पर छद्म राष्ट्रवादियो ने इतनी बड़ी उपलब्धि को बिलकुल नजरअंदाज किया। इन लोगो ने इतनी बड़ी उपलब्धि का संज्ञान क्यों नही लिया???
इसकी प्रमुख वजह-----
1-बीजेपी विरोधी मिडिया ने जानबूझकर इसे नजरअंदाज किया और इस उपलब्धि को छुपाने के लिए गिरिराज सिंह के बयान को जानबूझकर तूल दिया।
2- बीजेपी समर्थक मिडिया ज़ी टीवी ,इंडिया टीवी ,ibn- 7 आदि अरुण जेटली के चमचे हैं जो जनरल वी के सिंह के बड़े विरोधी हैं और जनरल साहब का गुणगान हो ये जेटली और सुषमा स्वराज को बर्दाश्त नही है।
Rajputana Soch  राजपूताना सोच और क्षत्रिय इतिहास's photo. 3- मिडिया द्वारा अनदेखी तो समझ में आती है लेकिन उच्चायोग वाली बात पर बिना वजह छाती कूटने और वीके सिंह को कोसने वाले सोशल मिडिया में मौजूद तथाकथित हिंदूवादीयो ने भी इस उपलब्धि को बिलकुल नजरअंदाज किया और उदासीनता दिखाई,क्योंकि उनके भीतर हिंदुत्व के खोल में लिपटी हुई स्वजातीय प्रेम और जातिगत विद्वेष की भावना कूट कूटकर भरी है, ये लोग राजपूतो से इतना जलते हैँ की कभी किसी राजपूत का गुणगान नही कर सकते।
उनके लिए केंद्र सरकार के हर अच्छे काम का श्रेय मोदी /अमित शाह/अरुण जेटली को है और हर गलत निर्णय के लिए बिना वजह राजनाथ सिंह और जनरल वी के सिंह को कोसना इन कथित राष्ट्रवादियो का फैशन बन गया है।
स्वजातीय गौरव की भावना तो सही है पर जातिगत विद्वेष किसलिए????
उच्चायोग वाली बात पर मीडिया से भी पहले छाती कूटना शुरू करने वाले इन सोशल मीडिया के राष्टवादियो ने जिस तरह यमन के बचाव अभियान पर एलेक्ट्रोनिक मीडिया की तरह ही चुप्पी का लबादा ओढ़े रखा उससे पता चलता है कि इनके हित इस राष्टवाद विरोधी मिडिया से कितने मिलते है और उच्चायोग वाले मुद्दे पर इन छद्म राष्टवादियो का विलाप कितना प्रायोजित था।
जनरल साब ने अपने सैन्य अनुभव और सेना में मिले युद्ध सेवा मैडल, अति विशिष्ट सेवा मेडल, परम् विशिष्ट सेवा मेडल को सार्थक कर के दिखा दिया और हमे गर्व है कि हमारा देश जनरल वीके सिंह जी जैसे साहसी और निडर लोगो के हाथो में है। जनरल साब को बहुत बहुत धन्यवाद...हमे आप पर गर्व है...!!