Saturday, January 17, 2015

HISTORY OF INDIA IS WRONG,NEEDS CORRECTON #HISTORYOFINDIA

 भारत में कथित धर्मनिरपेक्षता के नाम पर
भारत के मान-बिन्दुओ पर चोट करने वाला जो इतिहास
पढ़ाया जाता है, उससे जुड़े कुछ प्रश्न  आपको सोचने
पर मजबूर करेंगें।
1- आर्योँ को गोमांसभक्षी, शराबी व
आक्रमणकारी किस आधार पर लिखा? जबकि वैदिक
ग्रन्थोँ मेँ इसका कोई प्रमाण नहीँ मिलता।
2- आर्योँ की सभ्यता(सिन्धु घाटी) को दविड़
सभ्यता कहकर उसपर आर्योँ के आक्रमण
की कोरी कल्पना क्योँ की गई?
3- भारत पर आक्रमण करने वाला सिकन्दर भारत के
लुटेरा है, उसे महान क्यों बनाया?
4- अनेक इतिहासकार सिकन्दर की हार और पोरस
की जीत के प्रमाण देते हैँ, उन्हेँ क्यों छिपाया जाता है?
5- कलिँग नरेश खारवेल द्वारा बैक्ट्रिया के डेमिट्रियस (जो मगध पर आक्रमण करने आ रहा था) को मथुरा के
बाहर भगाने शौर्यपूर्ण कारनामेँ को की क्यों चर्चा नहीँ होती?
6- पुष्यमित्र शुंग द्वारा बैक्ट्रिया के मिनियान्दर को सिन्धु नदी के पार धकेलने का वर्णन
क्यों नहीँ होता?
7- गुप्तवंश के सम्राटोँ ने जिस वीरता से क्रूर बर्बर हूणोँ से टक्कर ली व उनके राजा मिहिरकुल को बन्दी बनाकर रखा, उसे क्यों नहीँ बताया जाता?
8- बप्पा रावल द्वारा सिन्ध, खुरासान ईरान,अफगानिस्तान मेँ दिग्विजय पाकर खुरासान की राजकुमारी के साथ विवाह करके लौटने का वर्णन करने मेँ हमारी जीभ तुतलाती क्यों है?
9-मुहम्मद बिन कासिम को बगदाद के खलीफा ने अचानक क्योँ मरवा दिया? सिन्ध के राजा दाहिर सेन की पुत्रियोँ सूर्या व परमाल के बलिदान की गाथा को झूठा किसने बनाया?
10- महमूद गजनवी की कश्मीर मेँ हुई करारी हार को छिपाया क्यों जाता है? सोमनाथ मन्दिर की लूट को लेकर जाते समय जो परेशानियाँ खोखर वीरोँ ने उसे दीँ उनका वर्णन क्यों नहीँ किया जाता?
11- मुहम्मद गोरी को गुजरात के राजा भीम द्वितीय ने जिस शौर्य से पीटा था कि गोरी ने सपने मेँ भी गुजरात
की तरफ आँख नहीँ उठाई। ये बात क्यों छिपाई जाती है?
12- अलाउद्दीन खिलजी की कामुख वृत्ति दर्शानेँ वाली रानी पद्मिनी की कथा को काल्पनिक क्यों माना जाता है?
13- अलाउद्दीन खिलजी के उस आदेश को क्यों छिपाया जाता है, जिसके तहत मुसलमानोँ को हिन्दुओँ को अपमानित करने और उनके मुँह मेँ थूकने तक का अधिकार था?
14- जब सारे इतिहासकार मानते हैँ कि अपने समय के सबसे शक्तिशाली योद्धा राणा सांगा ने दिल्ली के शासक इब्राहीम 3 बार हराया था, तब फिर बाबरनामा की ये बात कैसे सत्य मानी गई कि दिल्ली को हराने के लिए राणा ने बाबर को बुलाया था? और ये नहीँ बताया जाता कि जब बाबर राणा से जीत गया था तब भी मेवाड़ पर कब्जा क्यों नहीँ किया?
15- बाबर द्वारा हुमायूँ की बीमारी अपने ऊपर लेकर मरने का झूठा चमत्कार क्यों प्रचारित किया जाता हैँ?
16- बताया जाता है कि हुमायू ने रानी कर्मावती की राखी की लाज रखने के लिए गुजरात के बहादुर शाह पर आक्रमण किया था,जबकि वो दो महीने तक सारंगपुर मेँ अफीम खाकर मौज मस्ती करता रहा और जब चित्तौड़ जल चुका तब अपने
विद्रोहियोँ को शरण देने के अपराधी बहादुरशाह को दण्डित करने चला था।
17- दर-दर की ठोकरे खाते हुए हुमांयु को अमरकोट के राणा वीरसाल ने शरण दी और सिन्ध के दक्षिण-पूर्वीँ भाग को जीतने के लिए हुमायुँ की सहायता भी की। यहीँ अकबर का जन्म हुआ। फिर हुमायुँ राणा से ही झगड़ बैठा।इसकी चर्चा क्यों नहीँ करते?
18- शेरशाह शूरी को बड़ा बहादुर विजेता बताते हैँ पर हिन्दू राजाओँ के साथ किये गये उसके विश्वासघात पर
चुप रहते हैँ?
19- अकबर को महान कहते समय छिपा दिया जाता है कि उसने 13 बरस की आयु मेँ घायल व बन्दी बनाए गये हेमुं
की गर्दन पर तलवार का वार करके गाजी की उपाधि धारण की थी। अपने संरक्षक बैरम खाँ को राज्य प्राप्ति के चार साल बाद
ही निष्काशित कर मरवा दिया व उसकी पत्नी(अपनी सगी बुआ की लड़की)से बलात निकाह कर लिया। उसके दरबारियोँ ने 15 बार उसके खिलाफ विद्रोह किया और उसके राज्य मेँ कभी शातिँ नहीँ रही। अकबर ने दबाव देकर निर्बल शासकोँ को अपनी बेटियाँ सौँपने को मजबूर किया,जिनको उदारतापूर्ण विवाह सम्बन्ध कहा जाता है।जबकि अबुल फजल के अनुसार उसके हरम 5000 औरतेँ थी।और आखिरी बात जब अकबर को अपने उद्देश्य मेँ सफलता ही नहीँ मिली, फिर राणा प्रताप की हार कैसे
हुई?
20- गुरू अर्जुन देव के हत्यारे जहाँगीर को न्याय की जंजीर वाला बादशाह की उपाधि कैसे मिल गई?
21- जो अपने बेटोँ का निर्माण नहीँ कर सका, उस शाहजहाँ को ताजमहल व लालकिले आदि का निर्माता बताकर इंजीनियर बादशाह कैसे बनाया?
22- कुतुबमीनार, लाल किले, मकबरे आदि का सत्य इतिहास आज पुष्ट प्रमाणोँ के आधार पर प्राप्त है पर इसे स्वीकार नहीँ किया जाता क्योँकि इससे धर्मनिरपेक्षता पे आँच आती है।
23- अन्याय व अत्याचार का विरोध करने के लिए सिकन्दरा मेँ अकबर के मकबरे से कब्र खोदकर आग लगाने वाले जाट वीरोँ को तो लुटेरा पर हिन्दुओँ पर जीवन भर जुल्म ढाने वाले औरंगजेब को 'जिन्दापीर' कहते हैँ?
24- ईँट का जवाब पत्थर से देने वाले वीर बन्दा वैरागी व शिवाजी के कार्योँ का वर्णन साम्प्रदायिकता कैसे हो गया? जबकि टीपू सुल्तान जैसा हत्यारा देशभक्त कहाता है।
25- धर्म के बदले सिर देने वाले गुरू तेगबहादुर, वीर हकीकत राय, जोरावर सिँह व फतेह सिँह का नाम लेने मेँ शर्म आती है, और इनके हत्यारोँ गुणगान होता है।