Thursday, December 4, 2014

सिख धर्म के उत्थान में राजपूतो का योगदान"/ SIKKH DHARMA AND RAJPUT HISTORY

सिख धर्म के उत्थान में राजपूतो का योगदान"

सिख राजपूतो में "बछितर सिंह मन्हास,बाजसिंह पवार,बन्दा सिंह बहादुर, जैसे यौद्धा और मिल्खा सिंह(राठौर),जीव मिल्खा सिंह जैसे महान खिलाडी राजपूत समाज से थे।
आज हम बज्जर सिंह राठौर से शुरुवात कर रहे हैं।

सरदार बज्जर सिंह राठौड जिन्होने गुरू गोविंद सिंह जी को अस्त्र शस्त्र की दीक्षा थी ---
सरदार बज्जर सिंह राठौड सिक्खो के दसवे गुरू श्री गोविंद सिंह जी के गुरू थे ,जिन्होने उनको शस्त्र चलाने मे निपुण बनाया था। बज्जर सिंह जी ने गुरू गोविंद सिंह जी को ना केवल युद्ध की कला सिखाई बल्कि उनको बिना शस्त्र के द्वंध युद्ध, घुड़सवारी, तीरंदाजी मे भी निपुण किया। उन्हे राजपूत -मुगल युद्धो का भी अनुभव था और प्राचीन भारतीय युद्ध मे भी पारंगत थे और वो बहुत से खूंखार जानवरो के साथ अपने शिष्यों को लडवाकर उनकी परिक्षा लेते थे। गुरू गोविंद सिंह जी ने अपने ग्रन्थ बछ्छित्तर नाटक मे भी उनका वर्णन किया है। उनके द्वारा आम सिक्खो का सैन्यिकरण किया गया जो पहले ज्यादातर किसान और व्यापारी ही थे, ये केवल सिक्ख ही नही बल्की पूरे देश मे क्रांतिकारी परिवर्तन साबित हुआ।बज्जर सिंह राठौड जी की इस विशेषता की तारिफ ये कहकर की जाती है के उन्होंने ना केवल राजपूतों को बल्की खत्री सिक्ख गुरूओ को भी शिक्षा दीक्षा दी।
पारिवारिक प्रष्टभूमि बज्जर सिंह सूर्यवंशी राठौड राजपूत वंश के शासक वर्ग से संबंध रखते थे। वो मारवाड के राठौड राजवंश के वंशंज थे

वंशावली--
राव सीहा जी
राव अस्थान
राव दुहड
राव रायपाल
राव कान्हापाल
राव जलांसी
राव चंदा
राव टीडा
राव सल्खो
राव वीरम देव
राव चंदा
राव रीढमल
राव जोधा
राव लाखा
राव जोना
राव रामसिंह प्रथम
राव साल्हा
राव नत्थू
राव उडा ( उडाने राठौड इनसे निकले 1583 मे मारवाड के पतंन के बाद पंजाब आए)
राव मंदन
राव सुखराज
राव रामसिंह द्वितीय
सरदार बज्जर सिंह ( अपने वंश मे सरदार की उपाधि लिखने वाले प्रथम व्यक्ति) इनकी पुत्री भीका देवी का विवाह आलम सिंह चौहान (नचणा) से हुआ जिन्होंने गुरू गोविंद सिंह जी के पुत्रो को शास्त्र विधा सिखाई--।

Sardar Bajjar Singh Rathore
Sardar Bajjar Singh Rathore was a teacher of tenth Sikh Guru, Guru Gobind Singh, in 17th century India.
Rathore trained Guru Gobind Singh in the intricacies of warfare, as well as in unarmed combat, equestrianism, armed combat, musketry, archery and foot tactics. A veteran of the Rajput-Mughal wars, he was well steeped in ancient Indian battle lore and often tested his disciple by pitting him against wild-beasts. The Guru reflects on these sessions, in the Bachittra Natak.
His militarisation of common Sikhs who were mostly farmers, and a few traders was a big turning point in history of sikhism and India as well.
He was great enough in not keeping his warrior skills or Shastravidya exclusive to his Rajput princelyhood but imparted on to khatri Sikh Gurus.
Family Background
He was scion of the great Suryavanshi Rathore Rajput ruling elite.
Family Tree
He was a descendant of the royal house of Marwar:
*.Rao Siha
*.Rao Asthan
*.Rao Duhad
*.Rao Raipal
*.Rao Kanha Pal
*.Rao Jalnsi
*.Rao Chada
*.Rao Tida
*.Rao Salkho
*.Rao Viram Deo
*.Rao Chanda
*.Rao Ridmal --------Rao Jodha ( First son of Rao Ridmal )
*.Rao Lakha ( seventh son of Rao Ridmal )
*.Rao Jauna
*.Rao Ram Singh I
*.Rao Salha
*.Rao Nathu
*.Rao Uda ( Udaane Rathore ) ( came to Punjab during fall of marwar in 1583 )
*.Rao Mandan
*.Rao Sukhraj
*.Rao Ram Singh II
*.Sardar Bajjar Singh ( first to use sardar title in his line )
*.His daughter Bhikha Devi was married to Alam Singh Chauhan ( Nachna) who gave Shastarvidya to Sahibzadas of tenth Sikh Guru.

Source- Wikipedia.
One can also refer to-
1. http://punjabrevenue.nic.in/ /gazropr4.htm
2. http://www.thesikhencyclopedia.c/ om/biographies/sikh-martyrs /alam-singh-nachna