Wednesday, December 31, 2014

Feces Lake from Pig manufacturer lies open in USA.

http://themindunleashed.org/wp-content/uploads/2014/12/fecessss.jpgBy: Anthony Gucciardi, Natural Society
These are large ‘lakes’ of feces and other animal waste ‘sewage systems’ lies open in one of LARGE FACTORY IN NORTH CAROLINA- Murphy-Brown, a subdivision of Smithfield Farms— the largest pork producer in the United States.Thousands of similar factory farms exist in just North Carolina alone, give you idea of how animals waste is handled .


Animals produce 100 times more waste than human beings.
Read more at

Tuesday, December 30, 2014

Sunday, December 28, 2014

ANCIENT HISTORY OF INDIA

Sādhya yuga –prior to 31000 BC. Devas were called Yāma. 4 main classes-Sādhya, Mahārājika, Ābhāsvara, Tuṣita, like Brāhmaṇa, Kṣatriya, Vaiśya, Śūdra. After glacial floods of 31000 BC, Svāyambhuva Manu, called human Brahmā re-started civilization with Vedic culture in 29102 BC. He is called Adam in Bible and was 26000 years before Kali yuga starting after Mahābhārata war as per Brahmāṇḍa purāṇa.
After a long gap, Kaśyapa (second Brahmā) re-started Vedic era. Asuras were supreme for 10 yugas = 3600 years. 
King Pṛthu was supreme in about 17000 BC who re-organized cultivation and large scale mining. To share, mining & other products, there were 12 major wars between Deva & Asuras. To stop that, Kūrma incarnation of Viṣṇu suggested joint mining called Samudra-manthana. Still, wars continued. Varāha killed Hiraṇyākṣa of south America (Puṣkara dvīpa) in about 16500 BC. Narasimha killed Hiraṇyakaśipu of Lybya-Ezypt of same group called younger brother. His great grandson Bali returned 3 lokas-Russia, China, India-to Indra. Rāhu was not satisfied with this treaty & wars continued.
Kārttikeya in 15800 BC (north pole moved away from Abhijit, Mahābhārata, Vana parva 230/8-10) started Deva supremacy by capturing Krauncha Dvīpa (north America, land & main mountain range both are in shape of flying bird). This is indicated by Greek authors like Arian, Megasthenes that India was self sufficient in everything, so it never attacked any other country since last 15000 years (before Alexander attack in 326 BC).
Vaiavsvata Manu in 13902 BC started present Yuga system. Earlier system of Veda was Brahma sampradāya. His system was called Āditya sampradāya, later on revived by Yājñavalkya in about 4000 BC. During period of Yama Vaivasvata (of same tradition as Vaivasvata Manu, called younger brother), glacial floods started in 10000 BC.
After this second glacial flood, Ṛṣabha Deva started civilization in about 9500 BC, so he is called descendant of Svāyambhuva Manu who had done this after 31000 BC. Maya Asura revised Sūrya-siddhānta in 9233 BC. Ikṣvāku re-established empire of Vaivasvata Manu on 1-11-8576 BC, so he is called son of Manu, though there was gap of about 5350 years. His son Vikukṣi has been called Ukusi in Iraq whose Kish chronicles have been found there dated about 8500 BC.
Father Baccus, called Dionysus attacked India and killed king Bahu in 6777 BC. According to Megasthenese, 153 generations of Indian kings ruled from that time for 6451 years 3 months as per Indian count till Chandragupta-1 of Gupta period in 327 BC when Alexander had attacked in 326 BC. 15 years after Baccus attack, king Sagara chased Yavanas of Arab to Greece after which it was named Ionia (Yunan) as per Herodotus. Some went to Yunnan of China also. Some attackers were forced to keep goat like beard as punishment, which later became respectable in Islam.
Paraśurāma destroyed Haihaya & Talajangha who had supported Baccus attack. Haihaya king Sahasrārjuna was killed by his alliance of 14 tribes from Khas in Asam, Kalinga of Orissa & Kurd of Iraq. His era has been called 120 years of democracy by Megasthenes (21 republics called 21 times wiping out of Kṣatriyas). On his death in 6177 BC, Kalamba era started called Kollam in Kerala. Ruins of his undersea town Sopara (Śūrpāraka-in shape of Chute) are found 30 kms long off coast of Mangalore estimated about 8000 years old.
Rama was born on 11-2-4433 BC on Sunday in 24th Tretā and ruled for 31 years after exile for 14 years from age of 25. His 35th descendant Bṛhadbala was killed in Mahābhārata in 3139 BC. Yudhiṣṭhira was coronated on 17-12-3139 BC (Yudhiṣṭhira śaka). Bhīṣma died after 5 days when nort motion of sun started after 58 days on bed of arrows. After rule of 36 years 3 months, Kaliyuga started on 17-2-3102 BC. After 6 months 11 days, Jaya samvatsara started on 25-8-3102 BC when Yudhiṣṭhira went for Abhyudaya, so it is called Jayābhyudaya śaka. In Kali year 25, Yudhiṣṭhira died in Kashmir where Laukika era started in 3076 BC. After 60 years rule, Parīkṣita was killed in 3042 BC by Takṣaka Nāga. His son Janamejaya retaliated after 27 years and turned 2 towns into mass graves called Moin-jo-daro (place of dead) and Harappa (heap of bones). On repentance of mass deaths, he made 5 land grants on 27-11-3014 BC on occasion of solar eclipse at Puri.
After 7 generations, in time of Nicakṣu, Sarasvatī dried and his capital Hastinapur wiped out by Ganga. King of Kashi took Sanyāsa as 23rd Tīrthankara Pārśvanātha, when Jaina- Yudhiṣṭhira śaka started in 2634 BC.
Śiśunāga śaka (called Kauzad = snake in Burma) started after his death in 1954 BC. Nanda śaka (his coronation) was in 1634 BC. Naobonassir (Lavaṇāsura) attack from Assyria was defeated by Kharavel in 824 BC at Mathura-11 years of his rule. Semirami attack with 35 lakh army was repulsed by Mālava Gaṇa formed under Śūdraka (his śaka in 756 BC) with 4 Agnivamśī kings-Paramar, Pratihar, Chahman, Chalukya. Chahman king of Delhi wiped out Assyrian capital Nineve in 612 BC when the śaka used by Varahamihira, Brahmagupta started. Mālava Gaṇa lasted for 300 years as per Megasthenes till Śrīharṣa śaka of 456 BC. 
Paramar king Vikramaditya of Ujjain started Vikrama samvat in 57 BC. His grandson started Śālivāhana śaka in 78 AD after repulsing attack by Turk, Parasi, Tatar & Chinese. Chedi śaka started in 248 AD. After end of later Guptas at Valabhi in Gujrat, Valabhi bhanga śaka started in 319 AD.
BY ARUN UPADHYAY.

Bhimbetka rock shelters (>30000 yrs ago) shows horses were not brought from ARAB.

The Bhimbetka rock shelters (Devanagari: भीमबेटका पाषाण आश्रय) are an archaeological World Heritage site located in Raisen District in the Indian state of Madhya Pradesh. The Bhimbetka shelters exhibit the earliest traces of human life in India and deliver traces of dance from prehistoric times; a number of analyses suggest that at least some of these shelters were inhabited by hominids like homo erectus more than 100,000 years ago.Some of the Stone Age rock paintings found among the Bhimbetka rock shelters are approximately 30,000 years old (Paleolithic Age).
The name Bhimbetka is associated with Bhima, a hero-deity renowned for his immense strength, from the epic Mahabharata.The word Bhimbetka is said to derive from Bhimbaithka, meaning "sitting place of Bhima".

MATHURA - VRNDAVANA THE DESECRATED TEMPLE OF KRISHNA

MATHURA - VRNDAVANA THE DESECRATED TEMPLE OF KRISHNA
The original holy well – Gyanvapi in between temple and mosque.
Aurangzeb's reign is more cited—or more controversial—than the numerous desecration and even the destruction of Hindu temples. During his reign, tens of thousands of temples were desecrated: their facades and interiors were defaced and their murtis (divine images) looted.In many cases, temples were destroyed entirely; in numerous instances mosques were built on their foundations, sometimes using the same stones. Among the temples Aurangzeb destroyed were two that are most sacred to Hindus, in Varanasi and Mathura.In both cases, he had large mosques built on the sites.
The Kesava Deo temple in Mathura, marked the place that Hindus believe was the birthplace of Shri Krishna.In 1661 Aurangzeb ordered the demolition of the temple, and constructed the Katra Masjid mosque. Traces of the ancient Hindu temple can be seen from the back of the mosque. Aurangzeb also destroyed what was the most famous temple in Varanasi – the Vishwanath Temple

Bhojeswar temple at bhopal.

Bhojeswar temple at bhopal, Madhya Pradesh-
It was destroyed twice by muslims and rebult. 
यहाँ है एक ही पत्थर से निर्मित विशव का सबसे बड़ा शिवलिंग (World's tallest shivlinga made by one rock)

भोजपुर (Bhojpur), मध्य प्रदेश कि राजधानी भोपाल से 32 किलो मीटर दूर स्तिथ है। भोजपुर से लगती हुई पहाड़ी प
र एक विशाल, अधूरा शिव मंदिर हैं। यह भोजपुर शिव मंदिर (Bhojpur Shiv Temple) या भोजेश्वर मंदिर (Bhojeshwar Temple) के नाम से प्रसिद्ध हैं। भोजपुर तथा इस शिव मंदिर का निर्माण परमार वंश के प्रसिद्ध राजा भोज (1010 ई - 1055 ई ) द्वारा किया गया था। इस मंदिर कि अपनी कई विशेषताएं हैं।

इस मंदिर कि पहली विशेषता इसका विशाल शिवलिंग हैं जो कि विशव का एक ही पत्थर से निर्मित सबसे बड़ा शिवलिंग (World's Tallest Shiv Linga) हैं। सम्पूर्ण शिवलिंग कि लम्बाई 5.5 मीटर (18 फीट ), व्यास 2.3 मीटर (7.5 फीट ), तथा केवल लिंग कि लम्बाई 3.85 मीटर (12 फीट ) है।


1,300-year-old fortress-like structure on Siberian lake

1,300-year-old fortress-like structure on Siberian lake

1,300-year-old fortress-like structure on Siberian lake -

The archaeological site is known as Por Bajin (also spelt Por-Bazhyn), meaning ‘clay house’. It is located on an island in the middle of Tere-Khol Lake in Tuva, Siberia, just 20 miles (32 km) from the Mongolian border.  First explored in 1891, the site was not excavated until 1957-1963. However, it was not until 2007-2008 that the first large-scale research was undertaken, carried out by the Por Bajin Cultural Foundation.'DETAIL HERE- CLICK



Mount Popa Monastery

Mount Popa Monastery

Mount Popa Monastery and the Mythology of the Thirty-Seven Spirit GuardiansBurma possesses a colorful past and a rich heritage.  One of the most awe-inspiring examples of this is the spectacular Buddhist monastery of Taung Kalat.
A Buddhist monastery is built right on top of Taung Kalat, and offers a panoramic view of the surrounding area to travellers who brave the flight of 777 steps to the summit of the volcano. Far from being merely a tourist attraction, the monastery is also a pilgrimage site. It is believed that the nearby Taung Ma-gyi is inhabited by the Great Nats.
http://www.ancient-origins.net/ancient-places-asia/mount-popa-monastery-and-mythology-thirty-seven-spirit-guardians-002350

Celebrities with Strange Deformities


KESHA WAS BORN WITH 2 INCHES VESTIGIAL TAIL, WAS CHOPPED OFF LATER.

Keha-Copy






















MILA KUNIS ,BOMBSHELL WAS BORN WITH TWO DIFF COLOR EYES-

Mila-Kunis-Copy

ASKTON KUTCHER WAS BORN WITH WEBBED TOES.
Ashton-Kutcher-Copy

KAROLINA KURKOVA- WITHOUT BELLY BUTTON AFTER SURGERY WHEN SHE WAS BORN-
karolina-kurkova

ANDY GARCIA ,OCEAN 12 STAR, WAS BORN WITH UNFORMED FETUS ATTACHED TO HIS SHOULDER, REMOVED LATER IN  ADOLESCENCE.
Andy-Garcia-Copy

LILLY ALLEN BORN WITH THREE NIPPLES-

1.-Lily-Allen



SANATAN VEDIC SCIENCE OF DHARMA &BHARAT

बुद्ध से पहल कोई बुद्धिस्ट नहीं था ।
जीसस से पहले कोई ईसाई नहीं था ।
मुहम्मद से पहले कोई मुसलमान नहीं था ।
महावीर से पहले कोई जैनी नहीं था ।
नानक से पहले कोई सिक्ख नहीं था ।
लेकिन
कृष्ण से पहले ,
राम से पहले ,
हरिशचन्द्र से पहले,
वशिष्ट से पहले,
गौतम, कपिल, कणाद,भरद्वाज, विश्वामित्र,अत्री, द्रोण आदि से भी पहले
सब सनातन वैदिक धर्मी थे |
क्योंकि धर्म किसी व्यक्ति विशेष के द्वारा आरम्भ नहीं होता वो तो ईश्वर के द्वारा सीधा ही वेद के द्वारा मानव मात्र को समान रूप से संविधान दिया गया है ।
व्यक्ति विशेष के द्वारा तो केवल मत, पंथ,सम्प्रदाय, मज़हब,रिलिजन आदि चला करते हैं ।
इसलिये अपने सनातनी हिन्दू होने पर गर्व करें.


Thursday, December 25, 2014

THE VINCI CODE

 The Vinci code को भारत में क्यों बैन कर दिया गया?
क्या कोई बता सकता है की ओशो रजनीश ने ऐसा क्या कह दिया था जिससे उदारवादी कहे जाने वाले और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को ढिंढोरा पीटने वाला अमेरिका रातों-रात उनका दुश्मन हो गया था और उनको जेल में डालकर यातनायें दी गयी और जेल में उनको थैलियम नामक धीमा जहर दिया गया जिससे उनकी बाद में मृत्यु हो गयी?
क्यों वैटिकन का पोप बेनेडिक्ट उनका दुश्मन हो गया और पोप ने उनको जेल में प्रताड़ित किया??
दरअसल इस सब के पीछे ईसाइयत का वो बड़ा झूठ है जिसके खुलते ही पूरी ईसाईयत भरभरा के गिर जायेगी। और वो झूठ है प्रभु इसा मसीह के 13 वर्ष से 30 वर्ष के बीच के गायब 17 वर्षों का
आखिर क्यों इसा मसीह की कथित रचना बाइबिल में उनके जीवन के इन 17 वर्षों का कोई ब्यौरा नहीं है?
ईसाई मान्यता के अनुसार सूली पर लटका कर मार दिए जाने के बाद इसा मसीह फिर जिन्दा हो गया था। तो अगर जिन्दा हो गए थे तो वो फिर कहाँ गए इसका भी कोई अता-पता बाइबिल में नहीं है। ओशो ने अपने प्रवचन में ईसा के इसी अज्ञात जीवनकाल के बारे में विस्तार से बताया था। जिसके बाद उनको ना सिर्फ अमेरिका से प्रताड़ित करके निकाला गया बल्कि पोप ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके उनको 21 अन्य ईसाई देशों में शरण देने से मना कर दिया गया।
असल में ईसाईयत/Christianity की ईसा से कोई लेना देना नहीं है।
अविवाहित माँ की औलाद होने के कारण बालक ईसा समाज में अपमानित और प्रताडित करे गए जिसके कारण वे 13 वर्ष की उम्र में ही भारत आ गए थे। यहाँ उन्होंने हिन्दू, बौद्ध और जैन धर्म के प्रभाव में शिक्षा दीक्षा ली। एक गाल पर थप्पड़ मारने पर दूसरा गाल आगे करने का सिद्धान्त सिर्फ भारतीय धर्मो में ही है, ईसा के मूल धर्म यहूदी धर्म में तो आँख के बदले आँख और हाथ के बदले हाथ का सिद्धान्त था।
भारत से धर्म और योग की शिक्षा दीक्षा लेकर ईसा प्रेम और भाईचारे के सन्देश के साथ वापिस जूडिया पहुँचे। इस बीच रास्ते में उनके प्रवचन सुनकर उनके अनुयायी भी बहुत हो चुके थे। इस बीच प्रभु ईसा के 2 निकटतम अनुयायी Peter और Christopher थे। इनमें Peter उनका सच्चा अनुयायी था जबकि Christopher धूर्त और लालची था।जब ईसा ने जूडिया पहुंचकर अधिसंख्य यहूदियों के बीच अपने अहिंसा और भाईचारे के सिद्धान्त दिए तो अधिकाधिक यहूदी लोग उनके अनुयायी बनने लगे। जिससे यहूदियों को अपने धर्म पर खतरा मंडराता हुआ नजर आया तो उन्होंने रोम के राजा Pontius Pilatus पर दबाव बनाकर उसको ईसा को सूली पर चढाने के लिए विवश किया गया। इसमें Christopher ने यहूदियों के साथ मिलकर ईसा को मरवाने का पूरा षड़यंत्र रचा। हालाँकि राजा Pontius को ईसा से कोई बैर नहीं था और वो मूर्तिपूजक Pagan धर्म जो ईसाईयत और यहूदी धर्म से पहले उस क्षेत्र में काफी प्रचलित था और हिन्दू धर्म से अत्यधिक समानता वाला धर्म है का अनुयायी था।
राजा अगर ईसा को सूली पर न चढाता तो अधिसंख्य यहूदी उसके विरोधी हो जाते और सूली पर चढाने पर वो एक निर्दोष व्यक्ति की हत्या के दोष में ग्लानि अनुभव् करता तो उसने Peter और ईसा के कुछ अन्य विश्वस्त भक्तों के साथ मिलकर एक गुप्त योजना बनाई। अब पहले मैं आपको यहूदियों की सूली के बारे में बता दूँ। ये विश्व का सजा देने का सबसे क्रूरतम और जघन्यतम तरीका है। इसमें व्यक्ति के शरीर में अनेक कीले ठोंक दी जाती हैं जिनके कारण व्यक्ति धीरे धीरे मरता है। एक स्वस्थ व्यक्ति को सूली पर लटकाने के बाद मरने में 48 घंटे तक का समय लग जाता है और कुछ मामलो में तो 6 दिन तक भी लगे हैं। तो गुप्त योजना के अनुसार ईसा को सूली पर चढाने में जानबूझकर देरी की गयी और उनको शुक्रवार को दोपहर में सूली पर चढ़ाया गया। और शनिवार का दिन यहूदियों के लिए शब्बत का दिन होता हैं इस दिन वे कोई काम नहीं करते। शाम होते ही ईसा को सूली से उतारकर गुफा में रखा गया ताकि शब्बत के बाद उनको दोबारा सूली पर चढ़ाया जा सके। उनके शरीर को जिस गुफा में रखा गया था उसके पहरेदार भी Pagan ही रखे गए थे। रात को राजा के गुप्त आदेश के अनुसार पहरेदारों ने Peter और उसके सथियों को घायल ईसा को चोरी करके ले जाने दिया गया और बात फैलाई गयी की इसा का शरीर गायब हो गया और जब वो गायब हुआ तो पहरेदारों को अपने आप नींद आ गयी थी। इसके बाद कुछ लोगों ने पुनर्जन्म लिये हुए ईसा को भागते हुए भी देखा।
असल में तब जीसस अपनी माँ Marry Magladin और अपने खास अनुयायियों के साथ भागकर वापिस भारत आ गए थे। इसके बाद जब ईसा के पुनर्जन्म और चमत्कारों के सच्चे झूठे किस्से जनता में लोकप्रिय होने लगे और यहदियों को अपने द्वारा उस चमत्कारी पुरुष/ देव पुरुष को सूली पर चढाने के ऊपर ग्लानि होने लगी और एक बड़े वर्ग का अपने यहूदी धर्म से मोह भंग होने लगा तो इस बढ़ते असंतोष को नियंत्रित करने का कार्य इसा के ही शिष्य Christopher को सौंपा गया क्योंकि Christopher ने ईसा के सब प्रवचन सुन रखे थे। तो यहूदी धर्म गुरुओं और christopher ने मिलकर यहूदी धर्म ग्रन्थ Old Testament और ईसा के प्रवचनों को मिलकर एक नए ग्रन्थ New Testament अर्थात Bible की रचना की और उसी के अधार पर एक ऐसे नए धर्म ईसाईयत अथवा Christianity की रचना करी गयी जो यहूदियों के नियंत्रण में था। इसका नामकरण भी ईसा की बजाये Christopher के नाम पर किया गया।
ईसा के इसके बाद के जीवन के ऊपर खुलासा जर्मन विद्वान् Holger Christen ने अपनी पुस्तक Jesus Lived In India में किया है। Christen ने अपनी पुस्तक में रुसी विद्वान Nicolai Notovich की भारत यात्रा का वर्णन करते हुए बताया है कि निकोलाई 1887 में भारत भ्रमण पर आये थे। जब वे जोजिला दर्र्रा पर घुमने गए तो वहां वो एक बोद्ध मोनास्ट्री में रुके, जहाँ पर उनको Issa नमक बोधिसत्तव संत के बारे में बताया गया। जब निकोलाई ने Issa की शिक्षाओं, जीवन और अन्य जानकारियों के बारे में सुना तो वे हैरान रह गए क्योंकि उनकी सब बातें जीसस/ईसा से मिलती थी। इसके बाद निकोलाई ने इस सम्बन्ध में और गहन शोध करने का निर्णय लिया और वो कश्मीर पहुंचे जहाँ जीसस की कब्र होने की बातें सामने आती रही थी। निकोलाई की शोध के अनुसार सूली पर से बचकर भागने के बाद जीसस Turkey, Persia(Iran) और पश्चिमी यूरोप, संभवतया इंग्लैंड से होते हुए 16 वर्ष में भारत पहुंचे। जहाँ पहुँचने के बाद उनकी माँ marry का निधन हो गया था। जीसस यहाँ अपने शिष्यों के साथ चरवाहे का जीवन व्यतीत करते हुए 112 वर्ष की उम्र तक जिए और फिर मृत्यु के पश्चात् उनको कश्मीर के पहलगाम में दफना दिया गया। पहलगाम का अर्थ ही गड़रियों का गाँव हैं। और ये अद्भुत संयोग ही है कि यहूदियों के महानतम पैगम्बर हजरत मूसा ने भी अपना जीवन त्यागने के लिए भारत को ही चुना था और उनकी कब्र भी पहलगाम में जीसस की कब्र के साथ ही है। संभवतया जीसस ने ये स्थान इसीलिए चुना होगा क्योंकि वे हजरत मूसा की कब्र के पास दफ़न होना चाहते थे। हालाँकि इन कब्रों पर मुस्लिम भी अपना दावा ठोंकते हैं और कश्मीर सरकार ने इन कब्रों को मुस्लिम कब्रें घोषित कर दिया है और किसी भी गैरमुस्लिम को वहां जाने की इजाजत अब नहीं है। लेकिन इन कब्रों की देखभाल पीढ़ियों दर पीढ़ियों से एक यहूदी परिवार ही करता आ रहा है। इन कब्रों के मुस्लिम कब्रें न होने के पुख्ता प्रमाण हैं। सभी मुस्लिम कब्रें मक्का और मदीना की तरफ सर करके बनायीं जाती हैं जबकि इन कब्रों के साथ ऐसा नहीं है। इन कब्रों पर हिब्रू भाषा में Moses और Joshua भी लिखा हुआ है जो कि हिब्रू भाषा में क्रमश मूसा और जीसस के नाम हैं और हिब्रू भाषा यहूदियों की भाषा थी। अगर ये मुस्लिम कब्र होती तो इन पर उर्दू या अरबी या फारसी भाषा में नाम लिखे होते।
सूली पर से भागने के बाद ईसा का प्रथम वर्णन तुर्की में मिलता है। पारसी विद्वान् F Muhammad ने अपनी पुस्तक Jami- Ut- Tuwarik में लिखा है कि Nisibi(Todays Nusaybin in Turky) के राजा ने जीसस को शाही आमंत्रण पर अपने राज्य में बुलाया था। इसके आलावा तुर्की और पर्शिया की प्राचीन कहानियों में Yuj Asaf नाम के एक संत का जिक्र मिलता है। जिसकी शिक्षाएं और जीवन की कहनियाँ ईसा से मिलती हैं। यहाँ आप सब को एक बात का ध्यान दिला दू की इस्लामिक नाम और देशों के नाम पढ़कर भ्रमित न हो क्योंकि ये बात इस्लाम के अस्तित्व में आने से लगभग 600 साल पहले की हैं। यहाँ आपको ये बताना भी महत्वपूर्ण है कि कुछ विद्वानों के अनुसार ईसाइयत से पहले Alexendria तक सनातन और बौध धर्म का प्रसार था। इसके आलावा कुछ प्रमाण ईसाई ग्रंथ Apocrypha से भी मिलते हैं। ये Apostles के लिखे हुए ग्रंथ हैं लेकिन चर्च ने इनको अधिकारिक तौर पर कभी स्वीकार नहीं किया और इन्हें सुने सुनाये मानता है। Apocryphal (Act of Thomas) के अनुसार सूली पर लटकाने के बाद कई बार जीसस sant Thomus से मिले भी और इस बात का वर्णन फतेहपुर सिकरी के पत्थर के शिलालेखो पर भी मिलता है। इनमे Agrapha शामिल है जिसमे जीसस की कही हुई बातें लिखी हैं जिनको जान बुझकर बाइबिल में जगह नहीं दी गयी और जो जीसस के जीवन के अज्ञातकाल के बारे में जानकारी देती हैं। इसके अलावा उनकी वे शिक्षाएं भी बाइबिल में शामिल नहीं की गयी जिनमे कर्म और पुनर्जन्म की बात की गयी है जो पूरी तरह पूर्व के धर्मो से ली गयी है और पश्चिम के लिए एकदम नयी चीज थी। लेखक Christen का कहना है की इस बात के 21 से भी ज्यादा प्रमाण हैं कि जीसस Issa नाम से कश्मीर में रहा और पर्शिया व तुर्की का मशहूर संत Yuj Asaf जीसस ही था। जीसस का जिक्र कुर्द लोगों की प्राचीन कहानियों में भी है। Kristen हिन्दू धर्म ग्रंथ भविष्य पुराण का हवाला देते हुए कहता है कि जीसस कुषाण क्षेत्र पर 39 से 50 AD में राज करने वाले राजा शालिवाहन के दरबार में Issa Nath नाम से कुछ समय अतिथि बनकर रहा। इसके अलावा कल्हण की राजतरंगिणी में भी Issana नाम के एक संत का जिक्र है जो डल झील के किनारे रहा। इसके अलावा ऋषिकेश की एक गुफा में भी Issa Nath की तपस्या करने के प्रमाण हैं। जहाँ वो शैव उपासना पद्धति के नाथ संप्रदाय के साधुओं के साथ तपस्या करते थे। स्वामी रामतीर्थ जी और स्वामी रामदास जी को भी ऋषिकेश में तप करते हुए उनके दृष्टान्त होने का वर्णन है।
विवादित हॉलीवुड फ़िल्म The Vinci Code में भी यही दिखाया गया है कि ईसा एक साधारण मानव थे और उनके बच्चे भी थे। इसा को सूली पर टांगने के बाद यहूदियों ने ही उसे अपने फायदे के लिए भगवान बनाया। वास्तव में इसा का Christianity और Bible से कोई लेना देना नहीं था। आज भी वैटिकन पर Illuminati अर्थात यहूदियों का ही नियंत्रण है और उन्होंने इसा के जीवन की सच्चाई और उनकी असली शिक्षाओं कोको छुपा के रखा है।
वैटिकन की लाइब्रेरी में बहार के लोगों को इसी भय से प्रवेश नहीं करने दिया जाता। क्योंकि अगर ईसा की भारत से ली गयी शिक्षाओं, उनके भारत में बिताये गए समय और उनके बारे में बोले गए झूठ का अगर पर्दाफाश हो गया तो ये ईसाईयत का अंत होगा और Illuminati की ताकत एकदम कम हो जायेगी। भारत में धर्मान्तरण का कार्य कर रहे वैटिकन/Illuminati के एजेंट ईसाई मिशनरी भी इसी कारण से ईसाईयत के रहस्य से पर्दा उठाने वाली हर चीज का पुरजोर विरोध करते हैं। प्रभु जीसस जहाँ खुद हिन्दू धर्मं/भारतीय धर्मों को मानते थे, वहीँ उनके नाम पर वैटिकन के ये एजेंट भोले-भाले गरीब लोगों को वापिस उसी पैशाचिकता की तरफ लेकर जा रहे हैं जिन्होंने प्रभु Issa Nath को तड़पा तड़पाकर मारने का प्रयास किया था। जिस सनातन धर्म को प्रभु Issa ने इतने कष्ट सहकर खुद आत्मसात किया था उसी धर्म के भोले भाले गरीब लोगों को Issa का ही नाम लेकर वापिस उसी पैशाचिकता की तरफ ले जाया जा रहा है।

Wednesday, December 24, 2014

CHITTOR DESTRUCTION BY AKBAR AND ROLE OF UDAI AND MAN SINGH

स्वामी दयानंद अपने चित्तोड़ भ्रमण के समय चित्तोड़ के प्रसिद्द किले को देखने गए। किले की हालत एवं राजपूत क्षत्राणियों के जौहर के स्थान को देखकर उनके मुख से निकला की अगर ब्रह्मचर्य की मर्यादा का मान होता तो चित्तोड़ का यह हश्र नहीं होता। काश चित्तोड़ में गुरुकुल की स्थापना हो जिससे ब्रह्मचर्य धर्म का प्रचार हो सके।

स्वामी दयानंद के चित्तोड़ सम्बंधित चिंतन में ब्रह्मचर्य पालन से क्या सम्बन्ध था यह इतिहास के गर्भ में छिपा सत्य हैं। जिस समय चित्तोड़ का अकबर के हाथों विध्वंश हुआ उस समय चित्तोड़ पर वीर बप्पा रावल के वंशज, राणा सांगा के पुत्र उदय सिंह का राज था। समस्त राजपुताना में चित्तोड़ एक मात्र रियासत थी जिसने अपनी बेटी का डोलना मुगलों के हरम में नहीं भेजा था। अकबर के लिए यह असहनीय था की जब तक चित्तोड़ स्वतंत्र हैं तब तक भारत विजय का अकबर का स्वपन अधूरा हैं। राणा उदय सिंह वैसे तो वीर था मगर अपने पूर्वजों से महानता एवं दूरदृष्टि से विमुख था। उसमें भोग विलास की मात्र अधिक थी इसीलिए उसका जीवन उसकी दर्जनों रानियाँ और उनके अनेकों बच्चों में उलझा रहता था। यही कारण था की महाराणा प्रताप ने एक बार कहा था कि अगर दादा राणा सांगा जी के पश्चात मेवाड़ की गद्दी पर वह बैठते तो मुगलों को कभी इतना शक्तिशाली न होने देते। राजपुताना के बाकि राजपूतों की दशा भी कोई भिन्न न थी।
जब अकबर ने चित्तोड़ पर आक्रमण किया तब उदय सिंह ने उसकी रक्षा करने के स्थान पर भाग जाना बेहतर समझा। अभागा हैं वह देश जिसमें आपत्ति काल में उसका मुखिया साथ छोड़ दे। बारूद से शून्य किला बच सकता हैं मगर किलेदार से शून्य किला नहीं बच सकता। यहाँ तक कि चित्तोड़ के घेराव के समय भी उदय सिंह ने बाहर बैठकर कुछ नहीं किया। मगर चित्तोड़ राजपूताने मस्तक था, मान था। जयमल जैसे वीर सरदार अभी जीवित थे। एक ओर अकबर कि 25 हजार सेना, 3000 हाथी एवं 3 बड़े तोपखाने थे वही दूसरी ओर संसाधन रहित स्वाधीनता से प्रेम करने वाले 5000 वीर राजपूत थे। राजपूत एक ओर मुग़ल सेना से लड़ते जाते दूसरी ओर तोपों कि मार से दह रही दीवारों का निर्माण करते जाते। युद्ध 6 मास से अधिक हो चला था। एक दिन किले की दीवार के सुराख़ के छेद में से अकबर ने अपनी बन्दुक से एक तेजस्वी पुरुष को निशाना साधा। उस गोली से जयमल का स्वर्गवास हो गया। राजपूतों ने एक युवा पत्ता को अपना सरदार नियुक्त किया। पत्ता की मूछें भी ठीक से नहीं उगी थी मगर मातृभूमि पर प्राण न्यौछावर करने के लिए सभी राजपूत तैयार थे। आज अलग दिन था। सभी राजपूतों ने केसरिया बाना पहना, कमर पर तलवार बाँधी और युद्ध के लिए रवाना हो गए। राजपूतों ने जब देखा कि किले की रक्षा अब असंभव हैं तो उन्होंने अंतिम संग्राम का मन बनाया। किले के दरवाजे खोल दिए गए। मुग़ल सेना अंदर घुसते ही राजपूतों की फौलादी छाती से टकराई। उस अभेद्य दिवार को तोड़ने के अकबर ने मदमस्त हाथी राजपूतों पर छोड़ दिए। अनेक हाथियों को राजपूतों ने काट डाला, अनेक राजपूत स्वर्ग सिधार गए। अंत में पत्ता लड़ते लड़ते थक का बेहोश हो गया। एक हाथी ने उसे अपनी सूंड में उठा कर अकबर के सामने पेश किया। बहादुर पत्ता के प्राण थोड़ी देर में निकल गए मगर अकबर उसकी बहादुरी और देशभक्ति का प्रशंसक बन गया। इस युद्ध में 30000 आदमी काम आये, जिनमें लड़ाकू राजपूतों के अतिरिक्त चित्तोड़ की आम जनता भी थी। युद्ध के पश्चात मृत बहादुरों के शरीर से उतरे जनेऊ का तोल साढ़े सतावन मन था। उस दिन से राजपूताने में साढ़े सतावन का अंक अनिष्ट माना जाता हैं। किले के अंदर राजपूत क्षत्राणियों ने जौहर कर आत्मदाह कर लिया। अकबर ने यह युद्ध हाथियों कि दिवार के पीछे खड़े होकर जीता था। राजपूत चाहते तो आत्मसमर्पण कर देते मगर उनका लक्ष्य शहिद होकर सदा के लिए अमर होना था। युद्ध के इस परिणाम से महान आर्य रक्त की बड़ी हानि हुई।
यह हानि होने से बच सकती थी अगर राजपूतों की भोगवादी प्रवृति न होती। राजपूतों में न एकता थी और न ही दूरदृष्टी थी। अगर होती तो मान सिंह जैसे राजपूत अपनी सेनाओं के साथ अपने ही भाइयों से न लड़ते और अकबर के साम्राज्य की नीवों को मजबूत करने में जीवन भर प्रयत्न न करते। अगर होती तो उदय सिंह अपना ही राज्य छोड़कर जाने से अधिक लड़ते लड़ते मर जाना अधिक श्रेयकर समझता। शराब, अफीम एवं अनेक स्त्रियों के संग ने राजपूतों के गर्म लहू को यहाँ तक जमा दिया था कि बात बात पर मूछों को तांव देने वाले राजपूत अपनी बहन और बेटियों को मुग़लों के हरम में भेजने में भी परहेज नहीं कर रहे थे।

स्वामी दयानंद का चिंतन इसी दुर्दशा का ईशारा कर रहा था कि जहाँ पर भोग होगा, प्राचीन धार्मिक सिद्धांतों का अपमान होगा, ब्रह्मचर्य का अभाव होगा वहां पर नाश निश्चित हैं। इसीलिए चित्तोड़ के दुर्ग को देखकर सन 1567 में हुए विनाश का कारण स्वामी जी के मुख से निकला।आज हिन्दू समाज को अगर अपनी रक्षा करनी हैं तो उसे वेद विदित आर्य सिद्धातों का अपने जीवन में पालन अनिवार्य बनाना होगा अन्यता इतिहास अपने आपको दोहराने से पीछे नहीं हटेगा।
SOURCE-
डॉ विवेक आर्य

CHRISTIAN TERRORISM IN GOA

WOMAN WARRIORS QUEEN PRAMILA

 WOMAN WARRIORS QUEEN PRAMILA!!!
STATUS OF WOMEN IN ANCIENT BHARATVARSH
In Hindu Vedic society : The women occupied a very important position, in the ancient Bharat Varse,In fact far superior position to the men of the that time. "Shakti" a feminine term means "power" and "strength".
APPROX 3100BCE .... It is said that Goddess Parvati had cursed the land to be such that the women folk remain devoid of male partners, which was then decreed to be freed of the curse only when Arjun would arrive in pursuit of the sacred horse of the Aswamedha yagya /
STORY OF PRAMEELA : Prameela, a woman-queen of unparalleled beauty, valour, wisdom and spirituality, a misogamist who ultimately weds Arjuna (Pandava hero). She is said to have ruled the region that is now Kerala (then Seemanthini Nagara) which sort of explains the matrilineal society still prevalent in Kerala.
The story begins where Dharmaraja (post-Mahabharata victory) is advised to hold ‘Ashwamedha Yagna’ (horse sacrifice) to re-establish the Pandava sovereignity. A white handsome horse is let loose across all the kingdoms and whoever holds the horse captive is considered to question the supremacy of the Pandava king and would therefore have to battle the king or his representative who is accompanying the horse.
Queen Prameela does exactly this. Meanwhile, Arjuna’s ego, which had taken a beating at the Mahabharata war front with Krishna’s Gitopadesha (sermon), re-surfaces, questioning the need for Krishna’s presence in accompanying a mere horse! Kamala Kumari was able to explicitly bring out the human tendency to bloat with self-conceit at victory and challenge the Divine (Krishna) due to one’s own egoistic blindness. The ban on entry of any male into Prameela’s kingdom confounds Arjuna who is forced to humble himself and seek Krsishna’s intervention time and again till he wins the queen’s hand.
This echoes Devi-Mahatmiyam prayer:
By you this universe is borne, by you this world is created; By you it is protected, By you it is consumed at the end, O Devi! You are the Supreme Knowledge, as well as intellect and contemplation...
Women were held in higher respect in India than in other ancient countries, and the Epics and old literature of India assign a higher position to them than the epics and literature of other religions. Hindu women enjoyed rights of property from the Vedic Age, took a share in social and religious rites, and were sometimes distinguished by their learning. There was no seclusion of women in India in ancient times.
SOURCE-INDIAN HISTORY REAL TRUTH

AGARSEN KI BAOLI IN DELHI

AGARSEN KI BAOLI IN DELHI
Agrasen ki Baoli (also known as Agar Sain ki Baoli or Ugrasen ki Baoli), is a 60-meter long and 15-meter wide historical step well on Hailey Road near Connaught Place, a short walk from Jantar Mantar in New Delhi, India.Although there are no known historical records to prove who built Agrasen ki Baoli, it is believed that it was originally built by the legendary king Agrasen during the Mahabharat epic era and rebuilt in the 14th century by the Agrawal community which traces its origin to Maharaja Agrasen.
Baoli or bawdi, also referred to as baori or bauri, is a Hindi word (from Sanskrit wapi or vapi, vapika).In Rajasthan and Gujarat the words for step well include baoli, bavadi, vav, vavdi and vavadi.
Water temples and temple step wells were built in ancient India and the earliest forms of step well and reservoir were also built in India in places like Dholavira as far back as the Indus Valley Civilisation.
Regarding the name Agrasen Ki Baoli it should be stated that in 1132 AD an Agrawal poet named Vibudh Shridhar mentions, in his work Pasanahacariu, a wealthy and influential Agrawal merchant of Dhilli named Nattal Sahu who was also a minister in the court of King Anang Pal III. Rebuilding the old Agrasen Ki Baoli would have been within the means of a well established and wealthy Agrawal community during the 14th century
SOURCE- INDIAN HISTORY- REAL TRUTH

AKBAR AND ITS COWARDNESS OF RAPE AND CONVERSION OF HINDUS

मुगल- अकबर की महानता के लक्षण --------------!
आधुनिक भारत के बामपंथी इतिहासकार यह लिखते नहीं थकते कि अकबर महान था जबकि उसकी महानता का कोई लक्षण उसमे दिखाई नहीं देता, अकबर भारतीय शासक न होकर बिदेशी आक्रमणकारी था वह मुग़ल था उसने भारत की सबसे ताकतवर जाती जो भारत की सुरक्षा, सत्ता जिस कुल में चक्रवर्तियों का समूह रहा हो उस क्षत्रिय जाती की लड़कियों को बेगम बनाकर क्षत्रियों का अपमान यानी भारत का अपमान ही किया वह राजपूत राजाओं को मनसबदारी दे अपने दरबार में दरबारी बनाना उनकी लड़कियों को अपने हरम में रख उन्हें बार- बार अपमानित करना सभी का इस्लामी करण कर निकाह करना सभी हिन्दू नारियों का घुट- घुट कर मरने के अतिरिक्त कोई रास्ता नहीं था क्या यही उसकी महानता का लक्षण था -?
बामपंथी इतिहासकारों की दुनिया १५० वर्ष या १३०० वर्ष से अधिक २००० वर्ष तक ही जाती है उन्हें हिन्दू वांगमय, वैदिक वांगमय अथवा महाभारत, रामायण इतिहास दिखाई नहीं देता वे हमारी मान्यताओं की धज्जी उड़ाकर इसे इतिहास मानने को तैयार नहीं ''जैसे यदि मुर्गा वाग नहीं दे तो सुबह नहीं होगी'' ! इनके लिखने से कुछ नहीं होता उन्हें पता नहीं कि श्रुती यानी वेद लाखों वर्ष श्रुती के आधार पर सुरक्षित रहा भारत में उनकी कोई जगह नहीं, मुग़ल आक्रमणकारी थे यह सिद्ध हो चुका है भारतीय राजाओं ने लगातार संघर्ष कर मुगल (परकीय) सत्ता समाप्त करने का संकल्प लिया था, केवल कुछ चापलूस ही अकबर को शहंशाहे हिन्द कहते थे क्योंकि अकबर की सत्ता तो स्थिर थी नहीं, राजपूताना ने मुगलों को कभी स्वीकार नहीं किया यहाँ तककि राजा मान सिंह को अपना आवास आगरा में बनाना पड़ा वे राजस्थान में मुह दिखाने के लायक नहीं थे वे उसी प्रकार थे कि जैसे एक नककटे ब्यक्ति ने संप्रदाय चला पूरे राज्य के लोगो की नाक कटवा दी उसी प्रकार मानसिंह ने अपनी बेटी तो दी ही साथ में जागीर की लालच में बहुत से राजपूतों की राज कुमारियों को भी तुर्क हरम में पहुचायीं सभी एक से हो गए इस कारण कोई भी राणाप्रताप के सामने ठहर नहीं सकता था, गुजरात, मालवा, मराठा, बिहार, बंगाल असम तथा दक्षिण का कोई प्रदेश मुगलों के कब्जे में नहीं रहा फिर काहेका शहंशाहे हिन्द ! महाराणा प्रताप के स्वदेश, स्वधर्म संघर्ष ने उन्हे महान बना दिया प्रत्येक भारतीय उनके चित्र अपने घर मे लगा अपने को धन्य मानता है क्या कोई अकबर का भी चित्र लगता है! महान तो एक ही हो सकता है महाराणा अथवा अकबर---!

अकबर के पास कोई महानता का लक्षण नहीं था अकबर के हरम मे 500 बीवियाँ थीं इस्लाम मे कौन कितना वीवी रखता है उसी मे मुक़ाबला होता है अकबर की यही महानता थी, चित्तौण हमले के समय महारानी जयमल मेतावड़िया के साथ १२ हज़ार क्षत्राणियों का जौहर हुआ था क्या यही थी मु. जलालुद्दीन अकबर की महानता-? वह मीना बाज़ार लगवाता था जिसमे स्वयं महिला वेश मे जाता था जिसमे हिन्दू लडिकियाँ बेची-खरीदी जाती थी, उसने सभी क्षत्रिय राजकुमारियों से ही विवाह किया न कि किसी मुगल शाहजादी का विवाह किसी क्षत्रिय कुमार के साथ किया, मंत्रिमंडल के सभी सदस्यों राजा टोडरमल, पं तानसेन, बीरबल सभी को इस्लाम स्वीकार करवाया केवल मानसिंह ही बचा था, मुगल दरबार तुर्की, ईरानी शक्ल ले चुका था भारतीयता का कहीं नाम नहीं था, वह भारत मे लुटेरा था हमलावर था जोधाबाई तड़पती रहती थी, मुगलों की हुकूमत है उसका ईमान इस्लाम है जोधाबाई ने अपनी कोख से सलीम को पैदा किया लेकिन सलीम ने कभी भी जोधा को अपनी माँ नहीं स्वीकार किया उसकी शिक्षा -दीक्षा भारतीयता बिरोधी हुई उसी जोधाबाई की कोख द्वारा गुरु अर्जुनदेव का बधिक पैदा हुआ।
मेवाड़ के हजारों निहत्थे किसानों की हत्या यही उसकी महानता ! मेवाड़ के बिरोध मे आमेर, बीकानेर इत्यादि को राजा की उपाधि देकर राणा के समानान्तर खड़ा करने का असफल प्रयास किया क्योंकि ये कोई राजा नहीं थे ये तो मेवाण राणा सांगा के रिआया यानी जागीरदार थे, राजपूतों को मांसाहार और ऐयासी की आदत डाली, मानसिंह जब मेवाण पर हमला किया तो अकबर ने कहा की कोई भी मारे दोनों तरफ हिन्दू ही हैं मानसिंह के पराजय के पश्चात कभी भी उसने महाराणा पर हमला के लिए नहीं भेजा हमेसा मुस्लिम सेनापतियों को ही भेजा, अकबर हिन्दू संतों का अपमान करने हेतु अपने दरबार मे बुलाता कुम्हन दास और संत तुलसीदास इसके प्रत्यक्ष उदाहरण हैं विनय पत्रिका मे प्रकारांतर से वर्णन किया है, उसका मानसिंह के संत तुलसीदास से मिलने के पश्चात मान सिंह से विस्वास उठ गया था उसने मानसिंह को दूध मे जहर दिया लेकिन गिलाश बदल गया और जहर अकबर पी गया उसी से उसकी मृत्यु हो गयी।
अकबर न तो महान था न ही शहंसाहे हिन्द वह भारत के छोटे से हिस्से मे ही संघर्ष करता हुआ आत्म हत्या को मजबूर हुआ----!

RAPIST AND BLOOD THIRSTY AJMER'S MOINUDDIN CHISTI

महमूद ग़ज़नवी ने वर्ष १००१-१०१८ लगभग २० लाख हिन्दुओ का क़त्ल इस्लाम नहीं कबूल करने पर किया था।
१००१ में हिन्दुओ के महान राजा जयपाल के हारने के वाद उनकी वहु वेटिओ का वलात्कार उन्ही के सामने सरे आम किया था।
थानेसर के युद्ध में हिन्दुओ का रक्त ऐसे प्रवाहित हो रहा था जैसे वरसात का पानी।
सोमनाथ अकेले ५०००० हिन्दुओ का क़त्ल करते हुए शिवलिंग को टुकड़े टुकड़े करते हुए अफगानिस्तान के मस्जिद के पायदान पर लगा दिया था।
मथुरा में वर्ष १०१७ में सभी के सभी कृश्ण भगवन राधा आदि की मुर्तिओ को भट्टी में गलाते हुए लगभग २० टन सोना अपने देश ले गया था. चंगेज खान , मोहमद गोरी ,अकबर , ओरंगजेब जैसे लूटेरे और वालात्करिओ के किस्से  
REF- OJASWI HINDUSTAN

Tuesday, December 23, 2014

sengar rajput clan/dynasty सेंगर राजपूत वंश

सेंगर राजपूत वंश(sengar rajput clan/dynasty)-----
सेंगर राजपूत वंश को 36 कुली सिंगार या क्षत्रियों के 36 कुल का आभूषण भी कहा जाता है, यह बंश न कवल
वीरता एवं जुझारूपन के लिए बल्कि सभ्यता और सुसंस्कार के लिए भी विख्यात है.

सेंगर राजपूतो का गोत्र,कुलदेवी इत्यादि------------
गोत्र-गौतम,प्रवर तीन-गौतम ,वशिष्ठ,ब्रहास्पतय
वेद-यजुर्वेद ,शाखा वाजसनेयी, सूत्र पारस्कर
कुलदेवी -विंध्यवासिनी देवी
नदी-सेंगर नदी
गुरु-विश्वामित्र
ऋषि-श्रृंगी
ध्वजा -लाल
सेंगर राजपूत विजयादशमी को कटार पूजन करते हैं.
सेंगर राजपूत वंश की उत्पत्ति(origin of sengar rajput)
इस क्षत्रिय वंश की उत्पत्ति के विषय में कई मत
प्रचलित हैं,

1- ठाकुर ईश्वर सिंह मडाड द्वारा रचित राजपूत वंशावली के प्रष्ठ संख्या 168,169 के अनुसार"इस वंश की उत्पत्ति के विषय में ब्रह्म पुराण में वर्णन आता है.चन्द्रवंशी राजा महामना के दुसरे पुत्र तितुक्षू ने पूर्वी भारत में अपना राज्य स्थापित किय,इस्नके वंशज प्रतापी राजा बलि हुए,इनके अंग,बंग,कलिंग आदि 5 पुत्र हुए जो बालेय कहलाते थे, राजा अंग ने अपने नाम से अंग देश बसाया,इनके वंशज दधिवाहन, दिविरथ,धर्मरथ, दशरथ(लोमपाद),कर्ण विकर्ण आदि हुए. विकर्ण के सौ पुत्र हुए जिन्होंने अपने राज्य का विस्तार गंगा यमुना के दक्षिण से लेकर चम्बल नदी तक किया.अंग देश के बाद इस वंश के नरेशो नेचेदी प्रदेश(डाहल प्रदेश), राढ़(कर्ण सुवर्ण),आंध्र प्रदेश (आंध्र नाम के शातकर्णी राजा ने स्थापित किया,इस
वंश के प्रतापी राजा गौतमी पुत्र शातकर्णी थे),सौराष्ट्र,मालवा,आदि राज्य स्थापित किए, राड प्रदेश(वर्दमान)के सेंगर वंशी राजा सिंह के पुत्र सिंहबाहु हुए,उनके पुत्र विजय ने सन 543 ईस्वी में समुद्र मार्ग से जाकर लंका विजय की और अपने पिता के
नाम पर वहां सिंहल राज्य स्थापित किया.सिंहल ही बाद में सीलोन कहा जाने लगा. विकर्ण के सौ पुत्र होने के कारण ही ये
शातकर्णी कहलाते थे,शातकर्णी से ही धीरे धीरे ये सेंगरी,सिंगर,सेंगर कहलाने लगे.इस मत के अनुसार सेंगर चन्द्रवंशी क्षत्रिय हैं.यह बहुत ठोस तर्क है इस वंश की उत्पत्ति का,अब बाकि मत पर नजर डालते हैं, 
2-एक अन्य मत के अनुसार भगवान श्रीराम के पिता राजा दशरथ ने अपनी पुत्री शांता का विवाह श्रृंगी ऋषि से किया,प्राचीन काल में क्षत्रिय राजा के साथ साथ ज्ञानी ऋषि भी हुआ करते थे,श्रृंगी ऋषि की संतान से ही सेंगर वंश चला.इस मत के
अनुसार यह ऋषि वंश है. 
3-एक अन्य मत के अनुसार श्रृंगी ऋषि का विवाह कन्नौज के गहरवार राजा की पुत्री से हुआ,उसके दो पुत्र हुए,एक ने अर्गल के गौतम वंश की नीव रखी और दुसरे पदम से सेंगर वंश चला,इस मत के अविष्कारक ने लिखा कि 135 पीढ़ियों तक सेंगर वंश पहले सीलोन (लंका) फिर मालवा होते हुए ग्यारहवी सदी में जालौन में कनार में स्थापित हुए. किन्तु यह मत बिलकुल गलत है,क्योंकि पहले तो अर्गल का गौतम वंश,सूर्यवंशी क्षत्रिय गौतम बुध का वंशज है और दूसरी बात कि कन्नौज में गहरवार वंश का शासन ही दसवी सदी के बाद शुरू हुआ तो उससे 135 पीढ़ी पहले वहां के गहरवार राजा की पुत्री से श्रृंगी ऋषि का विवाह होना असम्भव है.
4-एक मत के अनुसार यह वंश 36 कुल सिंगर या क्षत्रियों के 36 कुल का श्रृंगार(आभुषण )भी कहलाता है,इसी से इस वंश का नाम बिगड़कर सेंगर हो गया.5-उपरोक्त सभी मतों को देखते हुए एवं कुछ स्वतंत्र अध्यन्न करने के बाद हमारा स्वयं का अनुमान----------
मत संख्या 1 के अनुसार इस वंश के पुरखों ने पूर्वी भारत में अंग,बंग(बंगाल) आदि राज्यों की स्थापना की थी,इन्ही की शाखा ने आंध्र कर्नाटका क्षेत्र में आन्ध्र शातकर्णी वंश की स्थापना की,इसी वंश में गौतमी पुत्र शातकर्णी जैसा विजेता हुआ,जिसने अपने राज्य की सीमाएं दक्षिण भारत से लेकर उत्तर,पश्चिम भारत,पूर्वी भारत तक फैलाई.उसके बारे में लिखा है कि उसके घोड़ो ने तीन समुद्रों का पानी पिया, गौतमी पुत्र की बंगाल विजय के बाद उसके कुछ वंशगण यहीं रह गये,जो सेन वंशी क्षत्रिय कहलाते थे,सेन वंशी क्षत्रिय को ब्रह्मक्षत्रिय(ऋषिवंश) या कर्नाट क्षत्रिय(दक्षिण आन्ध्र कर्नाटक से आने के कारण) भी कहा जाता था.पश्चिम बंगाल का एक नाम गौर (गौड़)क्षत्रियों के नाम पर गौड़ देश भी था,पाल वंश के बाद बंगाल में सेन वंश का शासन स्थापित हुआ,गौर देश (बंगाल) पर शासन करने के कारण सेन वंशी क्षत्रिय सेनगौर या सेनगर या सेंगर कहलाने लगे.
(बंगाल में आज भी सिंगूर नाम की प्रसिद्ध जगह है).कालान्तर में इस वंश के जो शासक चेदी प्रदेश,मालवा,जालौन,कनार आदि स्थानों पर शासन कर रहे थे वो भी सेंगर वंश के नाम से विख्यात हुए, इस प्रकार हमारे मत के अनुसार यह वंश चंद्रवंशी है और इस वंश के शासको के विद्वान और ब्रह्मज्ञानी होने के कारण इसे ब्रह्म क्षत्रिय(ऋषि वंशी) भी कहा जाता है,
श्रीलंका में सिंहल वंश की स्थापना भी सन 543 ईस्वी में सेंगर वंशी क्षत्रियों ने की थी,चित्तौड के राणा रत्न सिंह की प्रसिद्ध रानी पदमिनी सिंहल दीप की राजकुमारी थी जो संभवत इसी वंश की थी, आंध्र सातवाहन शातकर्णी वंश के गौतमी पुत्र
शातकर्णी भी इसी वंश के थे जिन्होने पुरे भारत पर अपना आधिपत्य जमाया.
========================================
सेंगर वंशी क्षत्रियों के राज्य(states established and ruled by sengar rajputs)
प्राचीन काल में सेंगर क्षत्रियों का शासन अंग, बंग,आंध्र,राढ़, सिंहल दीप आदि पर रहा है,अब हम मध्य काल में सेंगर क्षत्रियों के राज्यों पर जानकारी देंगे.
1-चेदी अथवा डाहल प्रदेश--------
सेंगर क्षत्रियों का सबसे स्थाई और बड़ा शासन चेदी प्रदेश पर रहा है,यहाँ का सेंगर वंशी राजा डाहल देव था जो महात्मा बुद्ध के समकालीन थे,इन्ही डहरिया या डाहलिया कहलाते हैं जो सेंगर वंश की शाखा हैं,बाद में इनके प्रदेश पर चंदेल व
कलचुरी वंशो ने अधिकार कर लिया,
2--कर्णवती--------------
जब सेंगर राज्य बहुत छोटा रह गया तो राजा कर्णदेव सेंगर ने यह राज्य अपने पुत्र वनमाली देव को देकर यमुना और  र्मन्व्ती के संगम पर कर्णवती राज्य स्थापित किया आजकल यह क्षेत्र रीवा राज्य के अंतर्गत आता है. 
3-कनार राज्य ----------
जालौन में राजा विसुख देव ने कनार राज्य स्थापित किया,उनका विवाह कन्नौज के गहरवार राजा की पुत्री देवकाली से हुआ.जिसके नाम पर उन्होंने देवकली नगर बसाया,उन्होंने बसीन्द नदी का नाम बदलकर अपने वंश के नाम पर सेंगर नदी रख दियाजो आज भी मैनपुरी,इटावा,कानपुर जिले से हो कर बह रही है.बिसुख देव के वंशधर जगमनशाह ने बाबर का सामना किया था,कनार राज्य नष्ट होने पर जगमनशाह ने जालौन में ही जगमनपुर राज्य की नीव रखी,आज भी इस वंश के राजपूत
जगमनपुर,कनार के आस पास 57 गाँवो में रहते हैं और कनारधनी कहलाते हैं,
सेंगर राजपूतो के अन्य राज्य --------
सेंगर वंश का शासन मालवा की सिरोज राज्य पर भी रहा है,सेंगर वंश के रेलिचंद्र्देव ने इटावा में भरेह राज्य स्थापित किया,
13 वी सदी में इस वंश के फफूंद के कुछ सेंगर राजपूतो ने बलिया जिले के लाखेनसर में राज्य स्थापित किया जो 18 वी सदी तक चला,लाखेनसर के सेंगर राजपूतो ने बनारस के भूमिहार राजा बलवंत सिंह और अंग्रेजो का डटकर सामना किया,
इस वंश की रियासते एवं ठिकानो में जगमनपुर (जालौन),भरेह(इटावा),रुरु और भीखरा के राजा,नकौता के राव एवं कुर्सी के रावत प्रसिद्ध हैं.
===================================
सेंगर वंश की शाखाएँ एवं वर्तमान निवास स्थान
(branches of sengar rajputs)
सेंगर राजपूतो की प्रमुख शाखाएँ चुटू,कदम्ब,बरहि या(बिहार,बंगाल,असम आदि में),डाहलिया,दाहारिया आदि हैं.
सेंगर राजपूत आज बड़ी संख्या में मध्य प्रदेश,यूपी के जालौन, अलीगढ, फतेहपुर,कानपूर वाराणसी,बलिया,इ
टावा,मैनपुरी,बिहार के छपरा,पूर्णिया आदि जिलो में मिलते हैं.तथा राजनीति,शिक्षा,नौकरी,कृषि,व्यापार के
मामले में इनका अपने इलाको में बहुत वर्चस्व है.
===================================
sources--------
1-ब्रह्मपुराण
2-राजपूत वंशावली ठाकुर ईश्वर सिंह मडाड प्रष्ठ
संख्या 168 से 170
3-annals and antiques of rajputana by col james
tod
4- https://www.google.co.in/url …
5- https://www.google.co.in/url …
6- https://www.google.co.in/url …
note-प्रस्तुत पोस्ट में सेंगर राजपूत वंश की उत्पत्ति पर विभिन्न मत के परिक्षण के उपरांत हमने अपना अलग से
मत दिया है,किन्तु यह बाध्यकारी नहीं है,हो सकता