Wednesday, July 2, 2014

मेकालेप्रणित शिक्षापद्धतिका भयावह वास्तव

सभी क्षेत्रोंमें भारतकी अधोगति करनेवाली मेकालेप्रणित शिक्षापद्धतिका भयावह वास्तव जानें !मेकालेद्वारा वर्ष १९३१ में कुटिलतासे भारतमें पश्‍िचमी सभ्यतावाली शिक्षाप्रणाली लाई गई । दुर्भाग्यवश पश्‍िचमी सभ्यताकी साम्यवादी विचारधारावाले तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरूद्वारा वही शिक्षापद्धति यथावत स्वतंत्र भारतपर लादी गई । इसलिए देशमें बेरोजगारीके समान समस्याएं बढीं । यहांके कलाकार, परंपरागत कारीगर, वैद्य तथा व्यवसायिक समाजके प्रवाहसे बाहर फेंक दिए गए ।
स्वकेंद्रित बनानेवाली इस शिक्षासे देशका व्यक्ति काला अंग्रेज बन गया । इस शिक्षासे भारतीय व्यक्ति भ्रष्टाचारी, व्यभिचारी एवं संस्कृतिहीन बन गया । वह स्वभाषा, स्वसंस्कृति तथा स्वदेशको तुच्छ  समझने लगा है । 

मेकालेने देशकी संस्कृतिको उखाड दिया !

भारतमें सर्वत्र भ्रमण करते समय ईसाई धर्मप्रचारकके पुत्र मेकालेको भारतीय  समाज  सुसंस्कृत स्थितिमें दिखाई दिया । ऐसे समाजपर राज्य करना अंग्रेजोंके लिए असंभव था; इसलिए उन्होंने भारतमें सर्वत्र भ्रमणकर  इस देशकी संस्कृति तथा शिक्षाप्रणाली नष्ट करने हेतु कुटिलतापूर्वक एक शिक्षाप्रणालीकी रचना की । मेकालेने ब्रिटिश संसदमें सूचित किया कि इस शिक्षासे भारतीय नागरिक काला अंग्रेज बनेगा एवं शतकोंतक ब्रिटिशोंका दास बना रहेगा । भारतमें स्वतंत्र शिक्षाप्रणाली थी । निःस्पृह ब्राह्मणवर्ग संपूर्ण देशमें समाजको विद्यावान बनानेका कार्य कर रहा था । गुरुकुल पद्धति अस्तित्वमें थी । ब्रिटिशोंने इस पद्धतिको नष्ट किया । ब्रिटिशोंद्वारा लिखित विकृत इतिहास विद्यार्थियोंको सिखाया गया एवं अभीतक सिखाया जा रहा है ।

पेट भरनेवाले समाजकी उत्पत्ति !

अभी तक  ७० प्रतिशत समाजको शिक्षाका अवसर नहीं मिलता । शिक्षा ग्रहणके लिए जानेवाले ३० प्रतिशत समाजमें २ से ३ प्रतिशत लोग पूरी शिक्षा ग्रहण कर रोजगार प्राप्त करते हैं । स्वकेंद्रित शिक्षाके कारण समाज केवल पेट भरनेवाला बन गया ।

शिक्षामें दिखावा आ गया !

देशाभिमानका अभाव होनेसे शिक्षित युवक विदेश जा रहे हैं । इस शिक्षामें साहित्य तथा  विचार इत्यादिके विषयमें कोई शिक्षा नहीं दी गई । केवल दिखावटी अंग्रेजी शिक्षा भारतीय समाजद्वारा ग्रहण की गई ।

समाज विघटित हो गया !

पूर्वमें भारतीय समाज अखंड था । बहुसंख्यक श्रमिक समाज एवं लिपिकका कार्य करनेवाले २-३ प्रतिशत समाजमें भेदभाव उत्पन्न हो गया । इस शिक्षासे एक समय समाजमें प्रतिष्ठित ब्राह्मण वर्ग अधिक अपकीर्त हो गया एवं समाजसे दूर चला गया ।

भाषावादकीr उत्पत्ति !

केरलके  तमिल  भाषिक आदि शंकराचार्यको देशने स्वीकार किया था । इस समय भाषावाद नहीं था । मेकालेकी शिक्षापद्धतिके कारण भाषावादकी उत्पत्ति हुई ।

विद्यापीठ बंद हो गए एवं नैतिकताका अधःपतन हो गया !

भारतके प्राचीन तक्षशीला समान अनेक  विद्यापीठ  मेकालेद्वारा  लादी गई शिक्षापद्धतिके कारण इन १०० वर्षोंकी कालावधिमें बंद हो गए । वर्तमानमें भारतमें वैश्विक स्तरका ज्ञान  देनेवाले विद्यापीठ नहीं हैं । सामाजिक  रचना उद्ध्वस्त हो गई है । पूर्वमें विकसित ज्ञान देनेवाले विद्यापीrठ थे । भारतकी आदर्श समाजरचना ज्ञानपर आधारित  थी । मेकालेकी शिक्षापद्धतिसे समाजमें फूट पड गई । एकत्व देखनेवाला समाज विभक्त हो गया । स्त्रियां भ्रष्ट हो गर्इं । मेकालेकी शिक्षापद्धतिके अनुसार शिक्षाग्रहण करनेवाला मनुष्य व्यभिचारी एवं बलात्कारी बन गया । भारत विस्थापित हो गया ।...
पश्‍िचमी सभ्यताका संशोधन कार्य यथारूप लाया गया । इसलिए संशोधनके क्षेत्रमें भारतने आवश्यक प्रगति नहीं की । मेकालेकी शिक्षापद्धतिके कारण संपूर्ण  भारत  भटक गया है । नौकरी हेतु युवक भटकने लगे । भारत विस्थापित हो गया । इस शिक्षापद्धतिके कारण देशमें कागदका राज्य स्थापित हो गया । इस शिक्षासे यहांके नागरिक अनाडी एवं भ्रष्ट हो गए । यहांका नागरिक दास बन गया ।

संतोेंने देशको संवारा !

ऐसे कठिन समयमें प्रत्येक प्रांतमें संत उत्पन्न हुए एवं उन्होंने समाजको अपनी शिक्षासे सुसंस्कृत किया । सभी प्रांतों एवं भाषाओंमें तत्त्वज्ञान बतानेवाले संत उत्पन्न हुए । उन्होंने प्रत्येक घरको गुरुकुलमें रुपांतरित किया ।

प्राचीन परंपरा एवं आधुनिक विज्ञानका समन्वय रहनेवाली शिक्षापद्धति आवश्यक है !

भारतको प्राचीन परंपरा एवं आधुनिक विज्ञानका समन्वय करनेवाली स्वतंत्र शिक्षापद्धतिको स्वीकारना होगा एवं उसे आचरणमें लानेपर ही अगले १०० वर्षोंमें संपूर्ण भारत ज्ञानवान एवं विचारसंपन्न बनेगा ।
- श्री. गिरिश प्रभुणे, सामाजिक कार्यकर्ता, पुणे